प्रशासन गांवों के संग अभियान मे 99.25 लाख प्रकरणों का हुआ निस्तारण,आमजन को मिली राहत।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर ग्रामीणों की समस्याओं का मौके पर ही समाधान करने और राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का लाभ उन तक पहुंचाने के उद्देश्य से प्रशासन गाँवों के संग अभियान शुरू किया गया। इस अभियान के तहत सभी ग्राम पंचायतों पर शिविर लगाकर सरकार 22 विभागों से जुड़े कार्य किए गए। अभियान के तहत अब तक  करीब 99.25 लाख से अधिक प्रकरणों में राहत पहुंचाई जा चुकी हैं। इस अभियान की सफलता को देखते हुए लाभ से वंचित रहे ग्रामीणों की समस्याओं के निस्तारण के लिए फॉलो अप कैंप आयोजित किए जा रहे हैं।फॉलो अप कैंप गिरदावर मुख्यालय पर 15 मई से आयोजित हो रहे हैं। अब तक करीब 9,241 शिविर आयोजित हो चुके हैं। इन शिविरों से मौके पर ही ग्रामीणों के काम हो रहें हैं। इन फॉलो अप कैंपों में अब तक 19.25 लाख प्रकरणों का निस्तारण किया जा चुका है।
मुख्य शिविरों में लाखों लोगों के काम हुए।
शिविरों के दौरान 80 लाख से भी अधिक प्रकरणों में राहत पहुंचाई गई है। 16,689 भूमिहीन किसानों को भूमि आवंटित की गई, विभिन्न योजनाओं के तहत करीब 1.92 लाख वृद्धजन, विशेष योग्यजन और विधवाओं की पेंशन मौके पर ही स्वीकृत की गई। अनाथ बच्चों के पालन पोषण, शिक्षा आदि की व्यवस्था के लिए राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी पालनहार योजना के 71,765 प्रकरणों को स्वीकृत कर आर्थिक संबल दिया गया। राजस्व विभाग ने 16 लाख से अधिक नामांतरकरण खोले और 12 हजार से अधिक खातेदारी प्रकरणों, 4.66 लाख खातों का विभाजन किया। इस दौरान रास्तों के एक लाख से अधिक प्रकरणों का निस्तारण कर आमजन को राहत पहुंचाई गई। 16 लाख से अधिक राजस्व अभिलेखों और खातों का शुद्धिकरण किया गया, 17 लाख से अधिक जाति प्रमाण पत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र, हैसियत प्रमाण पत्र सहित अन्य प्रमाण पत्र जारी किए गए।
फॉलो अप कैंप बन रहे सहारा।
फॉलोअप कैंपों के माध्यम से अब तक करीब 19.25 लाख प्रकरणों का निस्तारण किया जा चुका है। इस दौरान पेंशन और पालनहार के 36,171 मामलों में लाभान्वित किया जा चुका है, 64,331 आवासीय पट्टे जारी करना, 67,465 राजस्व अभिलेखों का शुद्धिकरण, 1.36 लाख नामान्तरण, करीब 16 हजार सीमाज्ञान और 6,500 रास्ते के प्रकरणों का निस्तारण किया जा चुका है।
सावित्री को मिला योजनाओं का लाभ।
चूरू जिले के बीदासर में आयोजित शिविर परित्यक्ता सावित्री के लिए खुशियां लेकर आया। शिविर के दौरान मौके पर ही राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिया गया। पिछले करीब 4 वर्ष से पीहर में रह रहीं सावित्री अपने दिव्यांग बच्चे के लेकर शिविर में आई थीं। मौके पर ही समस्त दस्तावेज व जांच प्रक्रिया पूर्ण कर बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र और  दिव्यांग प्रमाण पत्र, उसका परित्यक्ता प्रमाण पत्र जारी किया गया और परित्यक्ता पेंशन के साथ ही, पालनहार योजना में आवेदन करवाया गया।

खातेदारों के बीच रजामंदी से बंटवारा।
बून्दी जिले के चरड़ाना ग्राम पंचायत में आयोजित शिविर में करीब तीन दशक पुराने बंटवारे के प्रकरण का निस्तारण किया गया। इससे अब अब खातेदारों को कृषि भूमि पर ऋण के साथ ही सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा। अरडाना निवासी रूकमणि, नंदप्रकाश, विनोद कुमार, कौशल्या, सुगना, मोडू, कैलाश, शांति और पुष्पचंद सयुंक्त रूप से खातेदार राजस्व रिकार्ड में दर्ज थे। शिविर खातेदारों ने प्रार्थना पत्र देकर अपनी समस्या बताई। शिविर के दौरान आपसी रजामंदी से बंटवारा करवाया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack