सेना तैयार हो तो लैंड टू लैंड में ज्यादा जमीन भी हम देने को तैयार-धारीवाल।

कोटा-हंसपाल यादव।
नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने चंबल नदी के तट पर स्थित आस्था के बड़े केंद्र चांदमारी बालाजी के दर्शन कर मंदिर की सुरक्षा वॉल के कार्य का शिलान्यास किया। करीब 2 करोड़ 13 लाख की लागत से 90 मीटर लंबी और 21 मीटर ऊंची प्रोटेक्शन कार्य का निर्माण नगर विकास न्यास द्वारा किया जा रहा है । यह प्रोटेक्शन कार्य ऐतिहासिक मंदिर के अस्तित्व पर आए संकट में सुरक्षा कवच का कार्य करेगा। शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने बड़ी संख्या में मौजूद क्षेत्रवासियों एवं श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा चांदमारी बालाजी मंदिर आस्था का बड़ा केंद्र है मंदिर परिसर की सुरक्षा कार्य के साथ-साथ समय-समय पर समिति द्वारा बताए जाने वाले कार्यों को जनसहयोग से पूरा करने का हर संभव प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मंदिर तक सड़क एवं अन्य सुविधाएं विकसित करने के लिए सेना और मंदिर समिति में रजामंदी होती हैं तो हम लैंड फ़ॉर लेंड में सेना को ज्यादा जमीन भी देने को तैयार हैं इसमे हम एक हफ्ता भी नही लगेगा।  मंदिर समिति द्वारा  इस दौरान यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि कोटा में  जन सहयोग से 50 से अधिक मंदिरों के जीर्णोद्धार यह कार्य करवाए जा रहे हैं सबकी भावनाओं को ध्यान में रखकर चांदमारी बालाजी मंदिर परिसर में भी सभी कार्यों को प्रमुखता से करवाया जाएगा। मंदिर समिति की ओर से  सड़क, लाइट सहित अन्य व्यवस्थाओं को लेकर की गई मांग पर भी यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने आश्वस्त किया है कि सेना की ओर से परमिशन की प्रक्रिया होते ही सभी कार्य पूर्ण कर दिए जाएंगे। कार्यक्रम में यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का मंदिर समिति की ओर से जोरदार स्वागत किया गया प्रोटेक्शन वॉल के कार्य के लिए समिति व क्षेत्र के लोगों ने उनका जोरदार स्वागत कर आभार जताया इस दौरान उन्होंने क्षेत्रवासियों से मुलाकात कर समस्याओं को सुना मंदिर परिसर का भ्रमण कर नदी किनारे चल रहे प्रोटेक्शन कार्य का भी उन्होंने निरीक्षण किया। कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस नेता अमित धारीवाल क्षेत्र के पार्षद बालाजी ट्रस्ट समिति के अध्यक्ष जगदीश गौतम उपाध्यक्ष मोहनलाल वर्मा सहित ट्रस्ट के पदाधिकारी एवं सदस्य नगर विकास न्यास सचिव राजेश जोशी मुख्य अभियंता ओपी वर्मा सहित बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी एवं श्रद्धालु मौजूद रहे। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack