कोचिंग सेंटर खोलने के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी।

हनुमानगढ़-विश्वास कुमार।
हनुमानगढ़ जिले के टाउन थाना क्षेत्र में कोचिंग सेंटर खोलने के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। आरोपी ने युवक को पार्टनरशिप में कोचिंग सेंटर खोलने का झांसा दिया और उससे फर्नीचर, एडवांस किराया और अन्य व्यवस्था के लिए 10 लाख रुपए ले लिए। इस दौरान कोरोना संक्रमण फैलने और लॉकडाउन लगने के कारण कोचिंग नहीं खोल पाए। युवक ने इस साल 1 अप्रैल से कोचिंग शुरू करने या रुपए वापस देने के लिए कहा तो आरोपी ने मना कर दिया और रुपए वापस लौटाने की बात कही, लेकिन अब तक नहीं लौटाए हैं । हेड कॉन्स्टेबल पुरुषोत्तम ने बताया कि आशुतोष पुत्र रामेश्वरदयाल चौधरी निवासी 23 श्याम विहार कॉलोनी चौमूं ने रिपोर्ट दी है। उसने बताया कि मेरे जीजाजी डॉ. सुरेश बाजिया हिसारिया हॉस्पिटल मे कार्डियोलॉजिस्ट के पद पर कार्यरत हैं। फरवरी 2021 मै और राजबहादुर पुत्र कालूराम निवासी बामनवास, सवाईमाधोपुर के साथ हनुमानगढ़ घूमने आया था। यहां पर मैंने राजबहादुर को मेरे जीजा से मिलवाया था। उस दौरान राजबहादुर ने कहा कि हम दोनों मिलकर हनुमानगढ़ मे कोचिंग सेंटर खोलते हैं। राजबहादुर ने कहा कि रुपए तुम लगा दो और सारा काम मैं संभाल लूंगा। तब मैंने उससे इन्वेस्टमेंट के बारे में पूछा तो उसने कहा कि 10 लाख रुपए दे दो, जिससे मैं फर्नीचर, एडंवास, किराया वगैरा और अन्य सभी व्यवस्थाएं कर लूंगा । साथ ही जयपुर से अच्छे स्टाफ का इंतजाम कर लूंगा और कोचिंग में हम दोनों 50-50 परसेंट के पार्टनर होगे।आशुतोष ने बताया कि मैंने राजबहादुर पर विश्वास करके मेरे जीजा सुरेश बाजिया से 10 लाख रुपए उधार लेकर राजबहादुर को नकद दे दिए। इस दौरान हमारी 1 अप्रैल 2021 से कोचिंग शुरू करने की बात हो गई थी और इसके बारे में हमारी लिखा पढ़ी भी हो गई थी। फिर अचानक कोरोना संक्रमण फैल जाने और लॉकडाउन लगने के कारण कोचिंग सेंटर नहीं खोल पाए। पीड़ित ने बताया कि मैंने इस साल 1 अप्रैल से कोचिंग शुरू करने या मेरे पैसे लौटाने के लिए कहा तो राजबहादुर ने कोचिंग सेंटर खोलने के लिए मना कर दिया और कहा कि मैं तेरे पैसे वापस कर दूंगा, लेकिन अब तक उसने रुपए नहीं लौटाए हैं। राजबहादुर ने मेरे साथ कोचिंग सेंटर खोलने के नाम पर 10 लाख रुपए की धोखाधड़ी की है। पुलिस ने पीड़ित की रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack