सेना को बर्बाद करने और पेंशन रोकने के लिए लाई गई है अग्निपथ स्कीम - हुड्डा।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
सेना भर्ती में केंद्र सरकार की ओर से लाई गई अग्निपथ योजना को लेकर रार बरकरार है। अग्निपथ योजना के विरोध में सोमवार को जहां देशभर में कांग्रेस पार्टी विरोध प्रदर्शन करने जा रही है तो वहीं रविवार को कांग्रेस के राज्यसभा सांसद और वर्किंग कमेटी के सदस्य दीपेंद्र हुड्डा का बड़ा बयान सामने आया है। दीपेंद्र हुड्डा ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार सेना में पेंशन रोकने के लिए अग्निपथ स्कीम को लेकर आई है। साथ ही हुड्डा ने केंद्र सरकार पर इस स्कीम के जरिए सेना को कमजोर करने का भी आरोप लगाया। कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अग्निपथ योजना देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है, यह योजना न देश के हित में है और न ही युवाओं के हित में है। इसलिए केंद्र सरकार को तुरंत इस योजना को वापस ले लेना चाहिए और अपना अहंकार छोड़कर युवाओं के मन की भी बात सुननी चाहिए।

अग्निपथ स्कीम पर केंद्र को करना होगा रोलबैक।
कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार को अंतत: अग्निपथ स्कीम पर रोलबैक करना पड़ेगा। केंद्र सरकार ने पहले भी तीन कृषि कानूनों को रोलबैक किया था लेकिन तब तक 700 किसानों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।

सेना की मजबूती के लिए हो रिफॉर्म।
कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि केंद्र सरकार जल्दबाजी में अग्निपथ योजना को लेकर आई है। इसके लिए न तो संसद में कोई चर्चा की गई और न ही कोई रक्षा विशेषज्ञों और आर्मी के रिटायर्ड अधिकारियों से कोई चर्चा की गई है। इस योजना को लाने से पहले सरकार को संसद में चर्चा करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी भी चाहती है की सेना को मजबूत करने के लिए रिफॉर्म हो, लेकिन उसके लिए संसद में चर्चा होनी चाहिए। रक्षा समिति में इस पर चर्चा होनी चाहिए और विशेषज्ञों के साथ भी चर्चा होनी चाहिए।

अग्निपथ योजना से कमजोर होगी सेना।
उन्होंने कहा कि अग्नीपथ योजना से सेना कमजोर होगी। जो युवा 4 साल के लिए सेना में भर्ती होगा वह अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहेगा। ऐसे में वह पूरे मन के साथ देश की सुरक्षा नहीं कर पाएगा।

केंद्र के विभागों में 26 लाख पद खाली।
कांग्रेस सांसद ने कहा कि युवाओं को हर साल दो करोड़ रोजगार देने का लॉलीपॉप देखकर सत्ता में आई मोदी सरकार अपने ही विभागों में भर्ती नहीं कर रही है। केंद्र के अधीन विभागों में करीब 26 लाख पद खाली हैं।अकेले सेना के अंदर दो लाख से ज्यादा ज्यादा पद खाली हैं। पिछले 3 साल से सेना में कोई भर्ती नहीं हुई है उन्होंने कहा कि युवाओं को नौकरियों के नाम पर काल्पनिक सपने नहीं दिखाना चाहिए। उन्होंने कहा कि साल 2014 के अंदर नरेंद्र मोदी ने रेवाड़ी में सत्ता में आने के बाद वन रैंक वन पेंशन की घोषणा की थी लेकिन अब नो रैंक नो पेंशन की बात हो रही है। दीपेंद्र हुड्डा ने कहा की भूतपूर्व सैनिकों को आज भी अन्य विभागों की नौकरियों में प्राथमिकता दी जाती है। अगर 4 साल के बाद जो युवा रिटायर होगा उसे सरकार क्या रोजगार देगी इस पर स्थिति साफ होनी चाहिए।

सेना पर राजनीति नहीं राष्ट्र नीति बननी चाहिए।
दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि बीजेपी और केंद्र की मोदी सरकार की आदत है कि वह हर मुद्दे पर राजनीति करती है । सेना पर भी राजनीति करने लगी है, लेकिन सेना पर राजनीति नहीं बल्कि राष्ट्र नीति बननी चाहिए।क्योंकि सेना में सभी क्षेत्र और धर्म के लोग सेना में जाकर राष्ट्र सेवा करते हैं, उन्होंने कहा कि आज देश में बेरोजगारी और महंगाई बड़े मुद्दे हैं लेकिन बीजेपी इन मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए कई तरह के शगूफे छोड़ती है। उन्होंने कहा कि अग्निपथ के विरोध में सोमवार को कांग्रेस देशव्यापी आंदोलन करेगी सभी विधानसभा क्षेत्रों में धरने प्रदर्शन किए जाएंगे।

राजस्थान में कांग्रेस एकजुट।
इधर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कांग्रेस में चल रही गुटबाजी को लेकर कहा कि कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं है, राजस्थान कांग्रेस के सभी नेता एकजुट हैं और साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में फिर से सरकार बनाएंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack