मंत्री भजनलाल ने बाबा विजयदास की पोती को बंधाया ढांढ़स, 5 लाख रुपये सहायता राशि का सौंपा चैक।

भरतपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
भरतपुर के कनकांचल और आदि बद्री पर्वत में खनन गतिविधि को प्रतिबंधित करने व इसे वन क्षेत्र घोषित करने के लिये चले आन्दोलन के दौरान आत्मदाह करने वाले बाबा विजयदास की पोती दुर्गा को सार्वजनिक निर्माण मंत्री भजनलाल जाटव और भरतपुर जिला कलेक्टर आलोक रंजन ने स्थित मान मन्दिर से समब्द्ध माताजी गौशाला परिसर में राज्य सरकार की ओर से सहायता राशि के रूप में 5 लाख रुपये का चैक सौंपा। इसके बाद जाटव एवं  जिला कलेक्टर ने पसोपा में पहाडी स्थित पशुपतिनाथ मन्दिर परिसर में बाबा विजयदास को श्रद्धांजलि अर्पित की, ग्रामीणों की विकास सम्बंधी मांगों को जल्द पूर्ण करने का आश्वासन दिया। बरसाना में सार्वजनिक निर्माण मंत्री ने बाबा के देहान्त पर गहरा दुःख प्रकट किया और बताया कि राज्य सरकार ने गत 20 जुलाई को हुये समझौते को 1 दिन के भीतर लागू कर आदि बद्री और कनकांचल पर्वत को वन क्षेत्र घोषित कर दिया है। अब वन, पर्यटन, देवस्थान व अन्य विभाग मिलकर इस क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिये समेकित योजना बना रहे हैं, यहा सघन पौधारोपण किया जायेगा, इस क्षेत्र के विभिन्न स्थानों को जोड़ कर पर्यटन सर्किट बनाने का भी प्रयास किया जा रहा है जिससे हमारी विरासत और पर्यावरण की रक्षा के साथ ही स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार मिले।इस अवसर पर वहां उपस्थित बाबा गोपेश्वर, राधाकान्त शास्त्री ने बताया कि पूर्व में भी वर्ष 2009 में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस क्षेत्र में पर्यावरण संरक्षण करने और खनन गतिविधियां रोकने के लिये की गई हमारी मांगों को तत्काल माना और इस बार भी मुख्यमंत्री और जिला प्रशासन का रवैया बहुत सकारात्मक रहा। जिला कलेक्टर का इस मामले में बहुत सराहनीय और संवेदनशील व्यवहार रहा है। उन्होंने राजस्थान सरकार द्वारा गौवंश संरक्षण के लिये किये जा रहे प्रयास और नवाचारों , गौशालाओं को दिये जा रहे अनुदान, स्थानीय स्तर पर गौशाला और नंदी शाला खोलकर गौवंश के संरक्षण के लिये किये जा रहे उपायों को देश के सभी राज्यों के लिये अनुकरणीय बताया। जिला कलेक्टर ने बाबा विजयदास की पौत्री दुर्गा  को सांत्वना दी तथा बताया कि बाबा के देवलोक गमन से भरतपुर का आमजन, समस्त प्रशासन और राज्य सरकार स्तब्ध और दुःखी है। ईश्वर उनकी आत्मा को अपने श्रीचरणों में शरण दें। जिला प्रशासन आपको सम्बल प्रदान करने के लिये कटिबद्ध है। उन्होंने दुर्गा को अपनी  छोटी बहन मानते हुये कहा कि भविष्य में किसी भी आवश्यकता के लिये अपने बडे भाई को सीधा फोन कर सकती है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशों के अनुसार राज्य सरकार और जिला प्रशासन आपकी हरसम्भव मदद के लिये तत्पर है। इसके बाद सानिवि मंत्री और जिला कलेक्टर ने पसोपा में पशुपतिनाथ मन्दिर परिसर में बाबा विजयदास को श्रद्धांजलि अर्पित की और ग्रामीणों को बताया कि बाबा के देवलोक गमन से हम सब बहुत दुःखी हैं। जाटव ने बताया कि यह क्षेत्र आपसी सौहार्द, भाईचारे और सद्भाव के लिये विख्यात है और यहा के सभी लोगों ने इस दुःखद घटना के बाद जो परिपक्वता दिखाई, वह सराहनीय है। उन्होंने सरपंच मोहना व ग्रामीणों की गांव से मन्दिर तक के रास्ते की क्षतिग्रस्त सड़क को नये सिरे से बनवाने की मांग पर समुचित कार्रवाई का भरोसा दिया तथा कहा कि यहा के लोगों की विकास सम्बंधी सभी मांगों को पूर्ण किया जायेगा। सरपंच मोहना ने प्रशासन और पुलिस की सराहना की तथा कहा कि इनकी वजह से ही क्षेत्र में शान्ति का माहौल बना रहा । इस अवसर पर भूरा बाबा, अन्य साधु-सन्त व ग्रामीण उपस्थित रहे। सानिवि मंत्री ने पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन कर क्षेत्र में शान्ति-सौहार्द और विकास के लिये ईश्वर से प्रार्थना की।इससे पूर्व बाबा विजय दास की स्मृति में जिला प्रशासन की ओर से पशुपतिनाथ मन्दिर में पौधारोपण किया गया। डीएम रंजन, एसपी श्याम सिंह, अन्य अधिकारियों व ग्रामीणों ने पौधारोपण किया तथा पौधे की सुरक्षा के लिए ट्री गार्ड लगाये। जिला कलेक्टर ने मंदिर के आसपास के क्षेत्र का विकास करने, स्वागत द्वार व हाई माक्स लाइट लगाने, 1 किलोमीटर लम्बाई की सड़क निर्माण कार्य मौके पर ही स्वीकृत करवाया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack