सुखाड़िया यूनिवर्सिटी की बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट की बैठक मे प्रोफेसर जीएस राठौड़ पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का लिया फैसला।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
सुखाड़िया यूनिवर्सिटी की बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट (बॉम) की बैठक राजस्थान यूनिवर्सिटी गेस्ट हाउस में हुई। पिछले काफी समय से विवादों में चल रही सुखाड़िया यूनिवर्सिटी को लेकर सरकार गंभीर नजर आई। लम्बे समय बाद ऐसा हुआ कि यूनिवर्सिटी की बॉम बैठक में उच्च शिक्षा सचिव भवानी सिंह देथा शामिल हुए। बैठक में प्रोफेसर जीएस राठौड़ पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने सहित कई अहम निर्णय किए गए। बॉम की बैठक में तय हुआ कि गुरुकुल यूनिवर्सिटी की फर्जी रिपोर्ट देने के मामले में यूनिवर्सिटी अपने स्तर पर जांच कराएगी। इसमें यूनिवर्सिटी के एक्ट और नियमानुसार जांच होगी और उसके बाद जीएस राठौड़ पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद कहा जा रहा है कि यूनिवर्सिटी जल्द ही जीएस राठौड़ को निलंबित कर सकती है। बॉम की बैठक में कल्लाजी यूनिवर्सिटी के सुखाड़िया यूनिवर्सिटी में मर्जर का मसला भी आया। इस पर उच्च शिक्षा सचिव ने साफ किया कि ये कल्लाजी एक्ट से बनी यूनिवर्सिटी है। पहले विधानसभा में एक्ट खत्म होगा। उसके बाद पूरी जमीन ट्रस्ट को जाएगी। इस मसले में सुखाड़िया यूनिवर्सिटी सहित कोई भी यूनिवर्सिटी या सरकार लाइबिलिटी नहीं लेगी। कल्लाजी के मर्जर को लेकर सबसे ज्यादा सक्रिय रहने वाले एक प्रोफेसर के लिए सचिव ने कहा कि वो शर्मा जी कौन हैं जो यहां एडजस्ट होना चाहते हैं। वो पति हों चाहे कोई हो, यहां एडजस्ट नहीं हो सकते। 11 अगस्त 2021 को हुई बॉम में नॉन टीचिंग के प्रमोशन से जुड़े मसले के गलत मिनट्स बनाने पर सरकार के नॉमिनी विधायक सुदर्शन ने आपत्ति दर्ज कराई। विवि में ओल्ड पेंशन स्कीम, स्टेट इंश्योरेंस लागू किए जाने का निर्णय हुआ।बायोटेक्नोलॉजी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर टीकम चंद ढाकल को कन्फर्म किया गया।शिक्षकों की भर्ती, पे रेग्युलेशन सहित पुराने फैसलों को यूजीसी के नियमानुसार लागू करने को लेकर तीन लोगों की कमेटी बनाई गई। इसमें गर्वनर नॉमिनी संतोष शील, प्रोफेसर आंनद पालीवाल को रखा गया। छात्रसंघ चुनाव का मुख्य चुनाव अधिकारी रजिस्ट्रार को बनाया गया। धरने, प्रदर्शन, पोस्टर पर पूरी तरह बैन लगाया गया। पिछली बॉम, अकादमिक काउंसिल और काउंसिल ऑफ डीन की बैठकों में लिए निर्णयों को लेकर कुलपति को जिम्मेदारी दी गई कि जिन निर्णयों पर आपत्ति आई उनकी जांच करेंगे और उनके क्रियान्वयन पर निर्णय करेंगे। साथ ही उनको अगली बॉम की बैठक में रखा जाएगा। यूनिवर्सिटी का लगभग 118 करोड़ का बजट पास हुआ। इसमें पिछले वित्तीय वर्ष में 29 करोड़ का घाटा दर्शाया गया। बॉम की बैठक में उच्च शिक्षा सचिव भवानी सिंह देथा, जाॅइंट सेक्रेटरी योगेश सिंघवी, विधायक सुदर्शन सिंह रावत, कुलपति प्रोफेसर आईवी त्रिवेदी, रजिस्ट्रार सीआर देवासी, गर्वनर नॉमिनी संतोष शील, डीन मेम्बर प्रोफेसर आनंद पालीवाल, प्रोफेसर सीपी जैन, प्रोफेसर बीएल वर्मा, डिप्टी रजिस्ट्रार मुकेश बार्बर, प्रोफेसर नीरज शर्मा, अमित गुप्ता सहित तमाम सदस्य मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack