बंदूक की नोक पर बैंक से लुटेरे 11 लाख रूपये नगद और 12 करोड़ रूपये का सोना लूटकर फरार।

उदयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
उदयपुर शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र में मणप्पुरम गोल्ड लोन ऑफिस में लूट डकैती की घटना सामने आई है। जहां पांच नकाबपोश बदमाशों ने हथियारों के दम पर मणप्पुरम गोल्ड में लूट की वारदात को अंजाम दिया। 5 नकाबपोश बदमाश करीब 24 किलो सोना और 11 लाख रुपए नगद लूट कर फरार हो गए। उदयपुर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र के सुंदरवास इलाके का यह पूरा मामला बताया जा रहा है। दरअसल, सोमवार को मणप्पुरम गोल्ड के खुलते ही पांच नकाबपोश बदमाश मणप्पुरम गोल्ड में घुस गए। प्राथमिक जानकारी में सामने आया कि बदमाश करीब 24 किलो गोल्ड और 11 लाख रुपए नगद लूटकर फरार हो गए। घटना की सूचना मिलने पर प्रताप नगर थाना पुलिस और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर चंद्रशील ठाकुर मौके पर पहुंचे। पुलिस ने पूरे शहर में नाकाबंदी करवा दिया है और आरोपियों की तलाश कर रही है।अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चंद्रशील ठाकुर ने बताया कि मणप्पुरम गोल्ड लोन ऑफिस में लूट की वारदात सामने आई है। प्राथमिक तौर पर सामने आया है कि नकाबपोश बदमाश करीब 24 किलो सोना लूट कर ले गए। उन्होंने बताया कि 11 लाख रुपए नगद लूटने की भी बात सामने आ रही है। बदमाशों के पास पिस्टल था। उन्होंने पिस्टल के दम पर लूट की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
हथियार की नोक पर लूट की वारदात।
वारदात को अंजाम देने के लिए लुटेरों ने शातिर तरीके से ऑफिस में प्रवेश किया। सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि एक नकाबपोश बदमाश पहले बैंक में घुसा और उसने बंदूक तानते हुए अपने अन्य साथियों को बुलाया। इसके बाद एक-एक कर 5 लुटेरे ऑफिस में घुसे और बंदूक दिखाकर लूट की वारदात को अंजाम दिया। एसपी विकास शर्मा ने बताया कि इस पूरे मामले के बाद शहर में नाकाबंदी करवा दी गई है। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है। गोल्ड लोन ऑफिस के ऑडिटर संदीप यादव ने बताया कि हमें ब्रांच मैनेजर का फोन आया कि इस तरह की लूट की वारदात घटी हुई है। इस दौरान ऑफिस में करीब 11 लाख रुपए नगद और 24 किलो सोना रखा हुआ था, जिसकी मार्केट वैल्यू करीब 12 करोड़ रुपए बताई जा रही है। उन्होंने बताया कि जितने भी लुटेरे थे सभी के पास अपनी-अपनी बंदूक थी। लुटेरों ने ब्रांच मैनेजर और स्टाफ को बंधक बनाकर इस पूरी वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान गोल्ड लोन ऑफिस के लॉकर में मौजूद एक स्टाफ को लॉक खोलने के लिए कहा और बंदूक दिखाते हुए इस पूरे लूट की वारदात को अंजाम दिया। वहीं, बदमाश जीपीएस लेकर नहीं गए जो लॉकर के गोल्ड में रखा हुआ था।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack