मेयर सौम्या गुर्जर के खिलाफ न्यायिक जांच की रिपोर्ट 23 सितम्बर को सुप्रीम कोर्ट में होगी पेश।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
ग्रेटर नगर निगम ग्रेटर जयपुर की मेयर सौम्या गुर्जर के खिलाफ न्यायिक जांच की रिपोर्ट को स्वायत शासन विभाग 23 सितम्बर को सुप्रीम कोर्ट में पेश करेगी। अतिरिक्त महाधिवक्ता (एएजी ) मनीष सिंघवी की ओर से ये रिपोर्ट कोर्ट में पेश करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया। कोर्ट ने इसे 23 सितम्बर को रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है। ऐसे में मेयर सौम्या गुर्जर के बर्खास्त होने की अटकलों पर फिलहाल 23 सितम्बर तक विराम लग गया है। फरवरी में निलंबन के आदेशों पर स्टे जारी करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अगली सुनवाई 26 अक्टूबर को करने की तारीख दी थी। इसके साथ ही  स्वायत शासन विभाग को निर्देश दिए थे कि न्यायिक जांच आने के बाद उसे पहले कोर्ट में पेश करें उसके बाद ही आगे की कार्यवाही की जाए।अब 15 अगस्त से पहले सरकार के पास न्यायिक जांच की रिपोर्ट आ गई तो सरकार ने इस मामले में शीघ्र सुनवाई का मानस बनाया है। इसी के चलते कोर्ट में विशेष अर्जी देते हुए निर्धारित तारीख 26 अक्टूबर से पहले 6 जून 2021 को स्वायत शासन विभाग ने तत्कालीन नगर निगम ग्रेटर के कमीश्नर यज्ञमित्र सिंह देव के साथ मारपीट, धक्का-मुक्की और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने के मामले में 3 पार्षदाें के साथ ही मेयर सौम्या गुर्जर को भी दोषी मानते हुए निलंबित कर दिया था। इसके बाद सरकार ने इन तीनों ही पार्षदों के साथ सौम्या गुर्जर के खिलाफ न्यायिक जांच शुरू करवा दी थी। इसी न्यायिक जांच की रिपोर्ट पिछले दिनों सरकार को सौंपी गई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack