छात्रसंघ चुनावः एवीबीपी के 2 नामांकन खारिज, छात्रनेताओं ने किया हंगामा।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान विश्वविद्यालय में नामांकन वापसी पर मंगलवार को हंगामा हो गया। स्क्रूटनी कमेटी ने एबीवीपी के महासचिव और उपाध्यक्ष पद के प्रत्याशियों के नामांकन खारिज कर दिए। इस बात से भड़के उम्मीदवार और एबीवीपी कार्यकर्ता मुख्य चुनाव अधिकारी के कक्ष में पहुंचे और जमकर हंगामा किया। हंगामा इतना बढ़ गया कि एवीबीपी के राष्ट्रीय मंत्री होशियार मीणा मुख्य चुनाव अधिकारी को मारने तक के लिए दौड़ पड़े। लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक लिया। एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की भीड़ डीएसडब्ल्यू कार्यालय का घेराव करने पहुंची। वहीं मौके पर मौजूद पुलिस ने भीड़ को आगे नहीं बढ़ने दिया। उधर स्टूडेंट की भीड़ को देखते हुए मुख्य चुनाव अधिकारी ने अपने कार्यालय को अंदर से बंद कर लिया और किसी के भी प्रवेश पर रोक लगा दी। मुख्य चुनाव अधिकारी हर्ष द्विवेदी के अनुसार महासचिव के एबीवीपी उम्मीदवार अरविंद झा ने कोर्ट के नियमों के विपरीत नामांकन दाखिल किया था, वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए साक्षी ने गलत दस्तावेज पेश किए थे। ऐसे में दोनों प्रत्याशियों का नामांकन खारिज हो गया है। जिसको लेकर एबीवीपी के कार्यकर्ता डीएसडब्ल्यू आफिस में हंगामा कर रहे हैं।डीएसडब्ल्यू कार्यालय ने महासचिव पद पर रोहिताश मीणा निर्दलीय के नामांकन को भी खारिज किया है। हालांकि रोहिताश मीणा ने पहले एनएसयूआई की विचारधारा से ही फॉर्म भरा था। लेकिन जो सूची एनएसयूआई ने जारी कि उसमें संजय चौधरी को महासचिव पद पर उम्मीदवार घोषित किया। छात्रसंघ चुनावों में एबीवीपी से नरेंद्र यादव, एनएसयूआई से रितु बराला और एसएफआई से राजेंद्र कुमार गोरा ने नामांकन भरा है। वहीं एनएसयूआई से बागी होकर मंत्री मुरारीलाल मीणा की बेटी निहारिका जोरवाल ने नामांकन दाखिल किया है। इसके साथ ही संजय चौधरी, निर्मल चौधरी, प्रताप भानु मीणा, हेतेश्वर कुमार ने भी निर्दलीय नामांकन भरा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack