बाढ़ में फंसे 2 हजार लोगों के लिये देवदूत बनी सेना, रेस्क्यू कर बचाया।

बूंदी-हंसपाल यादव।
कोटा चंबल नदी में जल का स्तर लगातार बढ़ते रहने से बूंदी जिले के लाखेरी कस्बे की मेज नदी उफान पर है। आसपास नदी के किनारे बसे गांव टापू बन गये है। बाढ़ में फंसे 4 से 5 गांव के लोगों को मिलाकर लगभग 2000 लोग फंसे होने की सूचना मिलने के बाद बूंदी जिले के लाखेरी क्षेत्र में सेना की टुकड़ी ने मोर्चा संभाला। और बाढ़ में फंसे लोगों का रेस्क्यू कर उनको बाहर निकाला। लाखेरी क्षेत्र के पाली, चांणदा, जाडाल, कांकरा गांव में सेना ने लोगो का रेस्क्यू किया। साथ ही बाढ़ में फंसे लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack