3 करोड़ के अवैध गांजे के साथ तीन तस्कर सीआईडी सीबी की गिरफ्त में।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान में सीआईडी सीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 3 करोड़ का गांजा जब्त किया है। जो विशाखापटनम से राजस्थान आ रहा था। इस बीच जयपुर की टीम ने चितौड़गढ़ के कपासन में कार्रवाई करते हुए ट्रक से कुल 1205 किलो गांजा जब्त किया। साथ में तीन लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। इसमें स्थानीय पुलिस की भी मदद ली गई। एडीजी क्राइम डॉ रविप्रकाश मेहरडा ने बताया कि प्लास्टिक की 364 थैलियों में भरकर गांजा ले जाया जा रहा था। जो भीलवाड़ा और हरियाणा में स्थानीय तस्करों को सप्लाई होने वाला था। ट्रक में सवार तस्कर राजू पुरी गोस्वामी, जितेंद्र पुरोहित और प्रहलादराय सोनी को गिरफ्तार किया गया है। राजू और प्रहलादराय भीलवाड़ा के रहने वाले हैं। वहीं, जितेंद्र पुरोहित जालोर का रहने वाला है। रविप्रकाश मेहरडा ने बताया कि इन तस्करों की हर गतिविधियों पर सीआईडी सीबी की टीम पिछले दो-तीन महीनों से नजर रख रही थी। इसी दौरान विशाखापट्टनम से भीलवाड़ा भारी मात्रा में अवैध मादक पदार्थों की तस्करी का इनपुट मिला। इनपुट पर सीआईडी क्राइम ब्रांच स्पेशल टीम प्रभारी डीएसपी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ के सुपरविजन एवं पुलिस निरीक्षक राम सिंह के नेतृत्व में ऑपरेशन किया गया। तस्कर बंद बॉडी कंटेनर में गांजा तस्करी कर सांवलिया जी से भादसोड़ा होकर कपासन की ओर आ रहे थे। डीआईजी क्राइम डॉ राहुल प्रकाश ने बताया कि सीआईडी सीबी की टीम ने इस सूचना पर गुरुवार रात को कपासन थानाधिकारी फूलचंद के सहयोग से नाकाबंदी करवाई। रोलिया कॉलपुरा रोड पर स्वामी विवेकानंद राजकीय स्कूल के पास नाकाबंदी की गई। इस दौरान संदिग्ध कंटेनर को रुकवाया गया। इस दौरान ड्राइवर की सीट पर बैठे राजू पुरी, बगल में बैठे जितेंद्र पुरोहित और प्रहलादराय सोनी घबरा गए। सख्ती से पूछताछ करने पर कंटेनर में प्लास्टिक वेस्ट बोतलों की आड़ में विशाखापट्टनम से गांजा तस्करी कर लाना बताया। आरोपियों के पास से तीन कीपैड मोबाइल, 2 एंड्राइड मोबाइल कुल 900 रुपए और कंटेनर में प्लास्टिक की वेस्ट बोतलों के बीच गांजे के 364 थैले मिले। अवैध मादक पदार्थ गांजा से भरे ट्रक को जप्त कर तीनों तस्करों को एनडीपीएस एक्ट के तहत कपासन पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि ट्रक कंटेनर में तस्कर राजू पुरी और प्रह्लाद राय सोनी का माल था। इन दोनों तस्करों के विरुद्ध पूर्व में भी गांजा तस्करी के प्रकरण दर्ज हुए है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack