सीएम गहलोत ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से साफ किया इंकार, बोले-फिलहाल मेरे पास राजस्थान और गुजरात की जिम्मेदारी।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राहुल गांधी के कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष बनने से इनकार करने के बाद अब कांग्रेस पार्टी के सामने बड़ी चुनौती ये है कि अगर राहुल गांधी नहीं तो फिर कांग्रेस का अध्यक्ष कौन होगा? इसे लेकर मीडिया रिपोर्ट्स में यह खबरें भी सामने आ रही हैं कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की भूमिका सौंपी जा सकती है। हालांकि इस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर इन चर्चाओं को सिरे से नकारते हुए कहा है कि उन्हें सोनिया गांधी ने राजस्थान के मुख्यमंत्री की पद जिम्मेदारी सौंपी है। वह इसे ही निभाते रहेंगे और उनका लक्ष्य फिलहाल यही है कि राजस्थान में 2023 में सरकार रिपीट कैसे हो। सीएम गहलोत ने कहा कि लंबे अरसे से मीडिया मेरे कांग्रेस अध्यक्ष बनने को लेकर खबरें चलाता रहता है लेकिन अभी तक तो इसे लेकर कोई चर्चा ही नहीं हुई। किसी को नहीं मालूम कि क्या होगा? सीएम गहलोत ने कहा कि सोनिया गांधी रूटीन चेकअप के लिए बुधवार को विदेश चली गईं हैं। यही कारण था कि हमने मंगलवार को ही उन्हें गुजरात चुनाव को लेकर अपना फीडबैक दिया था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि उन्हें सोनिया गांधी ने दो जिम्मेदारी सौंपी है। एक तो गुजरात के सीनियर ऑब्जर्वर की, जिसे वह गुजरात चुनाव यानी दिसम्बर तक देखते रहेंगे और दूसरा राजस्थान के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है जिसे वह निभाते रहेंगे। गहलोत ने कहा कि राजस्थान में वापस सरकार कैसे रिपीट हो यही उनका प्रयास रहेगा और ये दो ही काम ही उनके पास हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मीडिया अपने हिसाब से खबरें चलाता रहता है उसका वह क्या कर सकते हैं? जब तक राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर कोई फैसला नहीं हो जाता है तब तक वह इसपर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन वह ये कह जरूर सकते हैं कि उनके पास औपचारिक रूप से राजस्थान के मुख्यमंत्री और गुजरात चुनाव ऑब्जर्वर की जिम्मेदारी है और वह उसमें ही लगे हुए हैं। वही उन्होंने राहुल गांधी के साथ होने वाली मुलाकात को लेकर भी साफ कर दिया कि राहुल अभी सोनिया गांधी के साथ विदेश गए हैं, वह जब विदेश से वापस आएंगे क्या होगा देखते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack