कलेक्टर पहुंचे गौशाला, चारे-पानी, दवाईयों के बारे में पूछा, मृत पशुओं को गढ्ढा खोदकर दफनाने को कहा।

डूंगरपुर-प्रवेश जैन।
कलेक्टर डॉ. इंद्रजीत यादव, एडीएम हेमेन्द्र नागर ने भण्डारिया स्थित गौशाला निरीक्षण किया। कलेक्टर डॉ. इंद्रजीत यादव ने गायों के हाल देखे और उनके चारे- पानी के बारे में जानकारी ली। वही गायों को बीमारियों से बचाव को लेकर भी निर्देश दिए।प्रदेश में गायों में फैल रहे लंपी वायरस के संक्रमण को लेकर सरकार से लेकर प्रशासन अलर्ट है। इसी को लेकर आज बुधवार को कलेक्टर डॉ इंद्रजीत यादव, एडीएम हेमेंद्र नागर गौशाला पहुंचे। गौशाला के संचालक हेमन्त मेहता, रोशन दोशी ने बताया कि पोष्टिक चारा दिया जाता है। पंजाब से साईलीज व बीकानेर से चारे के लड्डु मंगवाकर गायों को खिलाया जा रहा है। कलेक्टर डॉ. यादव ने गायो के बीमार होने पर इलाज कराने एवं दवाईयां दिलाने के बारे में जानकारी ली। इस पर हेमन्त मेहता एवं रोशन दोशी ने बताया कि मेडिकल की सुविधा दवाईयां लाकर उपलब्ध कराई जा रही है। इलाज के लिये 2 घंटे के लिये पशु चिकित्सक की सेवा ली जा रही है। उन्होंने बताया कि डॉक्टर द्वारा रोजाना पशुओं को देखा जाता है। किसी भी तरह के लक्षण पाये जाने पर उसे दूसरे कमरे में रखा जाता है, जहां चारा पानी के साथ दवाईयां देते हुए इलाज किया जाता है। कलेक्टर डॉ. इंद्रजीत यादव ने मृत पशुओं को रखे जाने वाले स्थल को देखा ओर जानकारी ली। इस पर गौशाला में नियुक्त कार्मिक ने बताया कि शहर में कही भी पशु के मृत होनेे पर उसे नगरपरिषद द्वारा गौशाला में स्थित जगह पर रखा जाता है। हेमन्त मेहता और रोशन दोशी ने बताया कि गायों के लिये गर्मी में छाया को लेकर गौशाला है, लेकिन उनके घुमने एवं चारा- पानी घुमते हुए लेने को लेकर पौधारोपण किया गया है जो आज बड़े वृक्ष बन गये है। वहां पशु, गाये पेडो के आसपास व नीचे घूमती है। निरीक्षण के दौरान तहसीलदार संजय चरपोटा, गिरदावर दिनेश पंचाल एवं गौरक्ष मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack