होटल में आतंकवादियों के घुसने की सूचना पर पुलिस छावनी में तब्दील हुआ सवाई माधोपुर शहर।

सवाई माधोपुर-हेमेन्द्र शर्मा।
सवाई माधोपुर में आज प्रशासन उस वक्त सक्ते में आ गया जब जिला मुख्यालय के रणथंभौर रोड स्थित एक होटल में चार आतंकवादीयों के छिपे होने की सूचना मिली । हथियारबंद आतंकवादियों के होटल में छिपे होने की सूचना के साथ ही जिला एंव पुलिस प्रशासन रणथंभौर रोड स्थित होटल की तरफ दौड़ पडा। जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओला एंव पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार विश्नोई के नेतृत्व में पुलिस ने होटल को चारों तरफ से घेर लिया और रणथंभौर रोड को छावनी में तब्दील कर दिया गया ।  
इस दौरान पुलिस घेरे को देख आतंकवादियों ने पुलिस को ललकारा। आतंकवादियों को पकड़ने के लिए पुलिस का विशेष दस्ता तैयार किया गया। जिसने कड़ी मशक्कत के बाद आतंकवादियों को काबू पाया और चारो आतंकवादियों को दबोच लिया । होटल में आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना पर शहर भर में दहशत फैल गई और शहरवादी भी सक्ते में आ गया। लोगो को उस वक्त राहत मिली जब पता चला कि प्रशासन द्वारा ये मॉक ड्रिल की गई थी। 
पुलिस एंव प्रशासन द्वारा आतंकवादी घटना को रोकने के लिए मॉक ड्रिल तो की गई ,लेकिन यह मॉक ड्रिल महज दिखावा ही साबित हुई। क्योकी जिस तरह से मॉक ड्रिल में आतंकवादियों के पास एके 47 थी वैसे ही पुलिस एके 47 लिए आतंकवादियों का मुकाबला  डंडों से कर रही थी। वही जिस होटल में आतंकवादी छिपे हुए थे वहां होटल के थोड़ी ही दूर पर सैंकड़ो लोगों की भीड़ जमा हो गई। जो पुलिस एंव प्रशासन की इस तरह की घटना के दौरान की जाने वाली कार्यवाही की पोल खोलती नजर आई। पुलिस एंव प्रशासन मॉक ड्रिल तो की गई और मॉक ड्रिल के नाम पर महज खाना पूर्ति ही कि गई । गौरतलब है कि पुलिस एंव प्रशासन की मुस्तेदी का आंकलन करने के लिए इस तरह की मॉक ड्रिल की जाती है। लेकिन मॉक ड्रिल के दौरान भी कई विभागों के अधिकारी काफी देरी से मौके पर पहुंचे। साथ ही मॉक ड्रिल के दौरान महज खानापूर्ति करना ये कतई ठीक नही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack