मेडिकल कॉलेजों के निर्माण में देरी को लेकर चिकित्सा मंत्री ने जताई नाराजगी।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि राज्य में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेजों के निर्माण के कार्य को गति प्रदान की जाए ताकि समय पर निर्माण पूरा हो सके और आमजन को मल्टी स्पेशियलिटी चिकित्सा सुविधाएं उनके क्षेत्र में ही उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारी कार्यकारी एजेंसी के साथ लगातार बैठक करें और कार्य को समय पर पूरा करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने नागौर, बांसवाडा, अलवर और हनुमानगढ मेडिकल कॉलेज निर्माण में हो रही देरी को लेकर नाराजगी जाहिर की और कार्य की गति बढ़वाकर समय पर निर्माण पूरा करवाने के निर्देश दिए। चिकित्सा मंत्री निदेशालय चिकित्सा शिक्षा भवन में आयोजित राजस्थान मेडिकल एज्युकेशन सोसायटी के शासकीय मंडल की 6वीं बैठक को सम्बोधित कर रहे थे।  चिकित्सा मंत्री ने कहा कि बजट घोषणाओं की क्रियान्विति में राजमेस के अन्तर्गत संचालित मेडिकल कॉलेजों में सुपर स्पेशियलिटी सेवाओं को शुरू करने की स्वीकृति जारी की जा चुकी है इसके लिए उपकरण खरीद हेतु बजट एवं पद भी स्वीकृत किए जा चुके हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि उपकरण क्रय करने की प्रक्रिया शीघ्र सम्पादित की जाए साथ ही उपकरण खरीद में पूर्ण पारदर्शिता बरती जाए। गौरतलब है कि राजमेस के अन्तर्गत संचालित चिकित्सा महाविद्यालयों में सुपर स्पेशियलिटी विभाग जैसे एन्डोक्रॉयनोलॉजी, गेस्ट्रोएन्ट्रोलॉजल, गेस्ट्रोसर्जरी, मेडिकल ऑन्कोलॉजी, ऑन्कोसर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, न्यूरोलॉजी, यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, कॉर्डियोलॉजी विभागों की स्थापना किए जाने एवं आवश्यक उपकरण खरीद की जारी स्वीकृतियों का अनुमोदन भी बैठक में किया गया।बैठक में राजमेस के मेडिकल स्टॉफ से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई जिस पर चिकित्सा मंत्री ने स्टॉफ के मुद्दों का शीघ्र समाधान करवाने के निर्देश दिए।  चिकित्सा शिक्षा विभाग के शासन सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि प्रथम चरण में स्वीकृत 7 एवं द्वितीय चरण के 19 नर्सिंग महाविद्यालयों के भवन का निर्माण कार्य सितम्बर माह से शुरू करवा दिया जाएगा। नर्सिंग कॉलेजों के संचालन में एकरूपता बनी रहे इसलिए बजट घोषणा के अतिरिक्त राज्य में खोले जाने वाले नवीन राजकीय नर्सिंग कॉलेजों को राजमेस के अधीन रखे जाने के प्रस्ताव का अनुमोदन भी गवर्निंग काउंसिल द्वारा किया गया। इस दौरान विभिन्न महत्वपूर्ण एजेंडों का अनुमोदन किया गया। बैठक में गवर्निंग काउंसिल के अन्य सदस्य एवं मेडिकल कॉलेजों के प्राचार्य वीसी के माध्यम से उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack