भारी बारिश ने मचाई तबाही, स्कूलों में रहेगा अवकाश।

कोटा-हंसपाल यादव।
लगातार वर्षा एवं कोटा बैराज से पानी की निकासी के कारण शहर के नीचले इलाकों एवं बस्तियों में जल भराव क्षेत्रों से नागरिकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाये गये अस्थाई आश्रय स्थलों पर पहुंचाकर भोजन एवं आवास की व्यवस्थाऐं की है। जिला कलक्टर  ओपी बुनकर एवं पुलिस अधीक्षक शहर केसर सिंह ने जलभराव क्षेत्रों का दौरा कर पानी निकासी एवं प्रभावित क्षेत्रों से नागरिकों को सुरक्षित पहुंचाने का जायजा लिया। जिला कलक्टर ने प्रभावित क्षेत्रों में पानी निकासी के लिए नगर निगम एवं नगर विकास न्यास की टीम को त्वरित कार्यवाही कर व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने ऐसे क्षेत्रों से नागरिकों को अस्थाई आश्रय स्थलों पर पहुंचाकर भोजन, आवास आदि व्यवस्था करने के निर्देश दियेे। उन्होंने चम्बल के आस-पास की बस्तियों में दौरा कर नागरिकों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि लगातार वर्षा एवं चम्बल नदी में पानी की आवक को देखते हुए बैराज से पानी निकासी की मात्रा बढाई जा सकती हैं। प्रभावित क्षेत्र के सभी नागरिक सुरक्षित स्थानों पर समय पर पहुंचे। पुलिस अधीक्षक शहर ने प्रभावित क्षेत्रों में जिला प्रशासन, पुलिस एवं नगर निगम की टीम को संयुक्त रूप से भ्रमण कर नागरिकों को प्राथमिकता से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पानी निकासी होने तक ऐसे क्षेत्रों में पुलिस निगरानी रखते हुए आम लोगों की आवाजाही को बंद रखे। उन्होंने जलस्त्रोतों, नदी, नालों के बहाव क्षेत्रों में अनावश्यक भीड जमा नहीं होने के निर्देश दिये। 
प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण।
अधिकारियो द्वारा कुन्हाडी स्थित बापू बस्ती, बालिता रोड, नयापुरा स्थित वाल्मीकि बस्ती, नयापुरा बस स्टेण्ड, खण्ड गावडी, नंदा जी बाडी, रेल्वे स्टेशन, संजय नगर, रेल्वे कॉलोनी, काला तालाब क्षेत्र के आवासीय कॉलोनियों, जवाहर नगर, देवली अरब, रायपुरा सहित शहर के पानी भराव वालें क्षेत्रों का निरीक्षण कर पानी निकासी के लिए नगर निगम की टीम को पम्प आदि लगाने, जेसीबी की सहायता से जल निकासी के अवरोधकों को हटाकर व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इस दौरान अतिरिक्त कलक्टर शहर बीएम बैरवा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर प्रवीण जैन, आयुक्त नगर निगम वासुदेव मालावत सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। 
प्रशासन ने बनाए आश्रय स्थल।
जिला प्रशासन द्वारा जलभराव क्षेत्रों से 1500 नागरिकों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाकर 10 विद्यालयों एवं नगर निगम द्वारा बनाये गये 5 अस्थाई आश्रय स्थलों पर सुरक्षित पहुंचाया गया है। जिन्हें जिला रसद विभाग व नगर निगम की टीम द्वारा भोजन, आवास आदि की व्यवस्थाऐं की गई है। 
नागरिकों को पहुंचाया सुरक्षित स्थानों पर।
एसडीआरएफ, नगर निगम की टीम द्वारा नया नोहरा, तिरूपति गोपाल विहार, बालाजी नगर तृतीय, अनंतपुरा, हरिजन बस्ती गाडी खाना, खण्ड गावडी, बालिता, नंदा जी की बाडी, बापू बस्ती, केबलनगर, काला तलाब क्षेत्र की कॉलोनियों से रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में आरामपुरा, मंडानिया, कैथून, खेडारसूलपुर के आरामपुरा, मदनपुरा ग्राम पंचायत के मोहम्मदपुरा व सीमल्या आदि क्षेत्रों से नागरिकों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।  
विद्यालयों में रहेगा अवकाश।
जिला कलक्टर ओपी बुनकर ने आदेश जारी कर अधिकवर्षा की चेतावनी को देखते हुए जिले के सभी राजकीय, गैर राजकीय एवं शैक्षणिक संस्थानों में 23 अगस्त मंगलवार को एकदिवस का राजकीय अवकाश घोषित किया है। सभी विद्यालयों में इस दौरान शैक्षणिक कार्य बंद रहेगा। नागरिकों के ठहराव स्थलो के लिए चिन्हित किये गये विद्यालयों में व्यवस्थाऐं सुनिश्चित की जायेगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack