सीएम गहलोत ने मंडरायल के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का किया दौरा, मंत्री रमेश मीना की थपथपाई पीठ।

मंडरायल-महेन्द्र पाल।
सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बाढ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के लिए शनिवार को करौली जिले के मंडरायल दौरे पर रहे। इस दौरान सीएम गहलोत ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ईआरसीपी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी से हाथ जोड़कर अपील की है। उन्होंने केन्द्र सरकार द्वारा रेवडियां बांटने के सवाल पर कहा कि लोगो को मुफ्त दवाई इलाज और पेंशन देना यह लोग रेवडिया बांटने कहते है। उन्होंने कहा कि बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र में भारी नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि राहत और गनीमत की बात यह रही है कि कोई भी जनहानि नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि बाढ़-आपदा में लोगों के मकान धराशाई हुए हैं, साथ में फसल का भी नुकसान हुआ है। पीड़ित परिवारों का सरकार सर्वे कराएगी और उचित मुआवजा दिलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज शाम को केबीनेट की बैठक है जिसमे नुकसान को लेकर सर्वे होगा।
ईआरसीपी योजना के लिए प्रधानमंत्री पर बनाया जा रहा दबाव।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंडरायल मे जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि करौली, धौलपुर, कोटा, झालावाड़ और सवाई माधोपुर आज ऐसे जिले हैं, जो बरसाती सीजन में बाढ़ से प्रभावित होते हैं। उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि ईआरसीपी योजना भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने लागू की थी। लेकिन भारत सरकार इस योजना को धरातल पर नहीं आने दे रही है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना को लेकर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था। उसके बावजूद भी प्रधानमंत्री परियोजना को लेकर शांत बैठे हैं। राजस्थान प्रदेश से केंद्र सरकार में मंत्री भागीदारी निभा रहे हैं, लेकिन वह भी परियोजना को लेकर गंभीर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी परियोजना से पूरे पश्चिमी राजस्थान में राहत मिली है। उन्होंने कहा कि इस योजना के लिए 9 हजार करोड़ का बजट राजस्थान सरकार ने अलग से रखा है। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि भारत सरकार काम को रोक रही है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ईआरसीपी परियोजना को लागू कराने के लिए भारत सरकार से हाथ जोड़कर लागू कराने की मांग की है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अगर यह परियोजना लागू हो जाएगी तो बाढ़ जैसी तबाही प्रदेश में नहीं होगी। उन्होंने कहा कि यह परियोजना फसल के लिए जीवनदायिनी साबित होगी। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को यह योजना राष्ट्र हित को देखते हुए पूरी करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के मंत्री भी परियोजना को लेकर दबाव नहीं डाल रहे, बल्कि उल्टी बयानबाजी कर रहे हैं।उन्होंने बताया कि यह परियोजना तत्कालीन समय पर जब वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री रही थी। उस समय पर इसे बनाया गया था और अगर केंद्र सरकार इस परियोजना को लेकर इंटरेस्ट लेगी तो राजस्थान के साथ मध्य प्रदेश की भी समस्या हल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि पर योजना को लेकर मुख्यमंत्री राजस्थान और मध्य प्रदेश के साथ एग्रीमेंट हुआ है। एग्रीमेंट के आधार पर योजना की रूपरेखा तय की गई थी। उन्होंने कहा कि इस परियोजना को केंद्र सरकार को शीघ्र ही हरी झंडी देनी चाहिए। 
चिंरजीवी योजना को लेकर सीएम गहलोत ने कांग्रेसी और ग्रामीणों से ली जानकारी
सीएम गहलोत जैसे ही जयपुर से मंडरायल हेलीपैड पर उतरे तो वहा पर ग्रामीण एव पंचायती राज मंत्री रमेश मीना ने उनका स्वागत किया। वही भरतपुर संभागीय आयुक्त, आईजी, जिला कलेक्टर अंकित कुमार, एसपी नारायण टोंगस ने उनकी अगवानी की। इसके बाद सीएम गहलोत जैसे ही आगे बढे तो कार्यकर्ता और मौजूद लोग उनका स्वागत करने लगे। तभी सीएम गहलोत ने पूछा पहले यह बताओ चिंरजीवी योजना क्या है और उसके क्या लाभ है। इस पर पास मे मौजूद एक पूर्व संरपच ने बोला की मेरा आपकी वजह से लाखो रूपये का इलाज एसएमएस अस्पताल मे मुफ्त मे हुआ। वही पास खडे मंत्री रमेश बोले कि यह सब सिर्फ आपकी वजह से हुआ है। इसी दौरान सीएम गहलोत ने आगे बढते हुए एक जने से और पूछा की बताओ यह स्कीम लागू होने के बाद कितने लाख रूपए तक का इलाज मुफ्त मे कराया जा सकता है। इस पर मौजूद लोग ने कहा कि पांच लाख रूपये तक का इलाज मुफ्त है। इस पर सीएम गहलोत ने हंसते हुए कहा कि भैया कुछ तो मालूम रखो अबतो 10 लाख रुपए तक का इलाज मुफ्त है और ग्रामीणों को भी इसके बारे में जानकारी दो।
मंत्री रमेश मीणा की थपथपाई पीठ।
सीएम गहलोत ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मंत्री रमेश मीणा नेक दिल इंसान हैं और ईश्वर में आस्था रखने वाले व्यक्ति हैं साथी कर्मठ और इमानदार व्यक्ति भी हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि जब भी रमेश मीणा ने मेरे से कुछ मांगा तो मैंने कभी मना नहीं किया, विकास में भी कोई कमी नहीं छोड़ी है। फिर हंसते हुए बोले कि मंत्री रमेश का आदेश तो मानना ही पड़ेगा। वही जनसभा को संबोधित करते हुए गहलोत ने कहा कि पूरे प्रदेश वासियों का बीमा कर दिया है चिरंजीवी योजना से हार्ट सर्जरी बिल्कुल फ्री हो गई है।
दो पीएचसी खोलने की घोषणा।
सीएम गहलोत ने सपोटरा विधानसभा क्षेत्र के भांकरी गांव और बुकना गांव मे पीएचसी खोलने की घोषणा की। साथ ही नींदर और भरतून गांव मे पीएचसी की घोषणा आगामी बजट में की जाएगी। इसी के साथ ग्रामीणों की मांग पर सीएम गहलोत ने कहा कि महुवा हाइवे से मंडरायल तक जोड़ने के लिए
प्रधानमंत्री को लेटर लिखा जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack