बारां जिले में बाढ़ के हालात, सेना की टूकड़ी ने डाला डेरा, हेलीकॉप्टर से एक दर्जन लोगों को किया रेस्क्यू।

बारां-हंसपाल यादव।
बारां जिले में बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की लाख कोशिश के बाद भी कई लोग अब भी पानी में फंसे हुए हैं। जिला कलक्टर नरेन्द्र गुप्ता और एसपी कल्याण मल मीना पूरी सर्तकता बरते हुए हैं। मंगलवार को सेना की टुकड़ी और हेलीकॉप्टर बारां रेस्क्यू के लिए बारां पहुंचा।  छबड़ा के मोतीपुरा क्षेत्र में हेलीकॉप्टर से करीब एक दर्जन लोगों का रेस्क्यू किया गया। 
वहीं, छीपाबड़ौद के नीमथुर गांव में सेना की टुकड़ी को बुलाना पड़ा। यहां कई लोगों के फंसे होने की आंशका हैं।आपको बता दे, कि छबड़ा क्षेत्र व मध्यप्रदेश में बीते दिनों हुई भारी बारिश के चलते छबड़ा क्षेत्र की सभी नदी व नाले उफान पर आगये तथा तथा पार्वती नदी में आये उफान से कई गांवों में बाढ़ के हालात बन गए। वही छबड़ा क्षेत्र के गुगोर गांव की निचली बस्तियों में पार्वती नदी का पानी घुस गया। जिसके चलते जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। बाढ़ के हालात का जायज़ा लेने के लिए बारां जिला कलेक्टर नरेंद्र गुप्ता व एसपी कल्याण मल मीणा भी ट्रेन से छबड़ा क्षेत्र के मोतीपुरा पहुंच गए तथा उसके बाद उन्होंने बाढ़ ग्रस्त इलाको का दौरा किया। 
जानकारी के अनुसार छबड़ा क्षेत्र व मध्यप्रदेश में बीते 2-3 से हो रही भारी बारिश के चलते छबड़ा क्षेत्र के कई गांवों में बाढ़ के हालात बन गए है तथा जनजीवन खासा प्रभावित हुआ है। क्षेत्र के लगभग सभी नदी व नाले उफान पर है। बीती रात्रि को छबड़ा क्षेत्र की अंधेरी, पार्वती व रेतली नदी सहित अन्य नदी नालों में उफान आगया जिससे छबड़ा से बारां व मध्यप्रदेश की ओर जाने वाले अभी रास्ते अवरुद्ध हो गए तथा छबड़ा का मध्यप्रदेश व बारां जि़ला मुख्यालय से सम्पर्क कट गया। वही पार्वती नदी में भीषण उफान आने से नदी के समीपवर्ती बसे गाँवो में भी नदी का पानी घुस गया। जिससे कई घरो में पानी भी भर गया। ग्रामीणों ने समय रहते सतर्कता बरतते हुए घरो को खाली करवाकर प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया। पार्वती नदी में उफान आने से क्षेत्र के गुगोर, बटावदापार, गोडिय़ामेहर व खुरई सहित अन्य कई गांवों में जनजीवन प्रभावित हुआ है। वही अभी भी कई गांवों में ग्रामीणों के बाढ़ में फंसे होने की सूचनाएं भी मिली है। पुलिस प्रशासन लगातार एक्टिव है तथा छबड़ा एसडीएम सुरेश कुमार हरसोलिया, डीवाईएसपी पूजा नागर, तहसीलदार हरिमोहन त्यागी व छबड़ा थानाधिकारी राजेश कुमार के नेतृत्व में अलग-अलग टीमें बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत बचाव के कार्य मे जुटी हुई है। बाढग़्रस्त इलाको का दौरा करने के लिए बारां जिला कलेक्टर नरेंद्र गुप्ता व एसपी कल्याणमल मीणा भी मार्ग अवरुद्ध होने के चलते ट्रेन के माध्यम से छबड़ा पहुंचे तथा ट्रेन के माध्यम से छबड़ा से मोतीपुरा रवाना हुए एवं वहां से बाढ़ ग्रस्त इलाको में पहुंचे। वही छबड़ा पुलिस की टीम भी स्थानीय गोताखोरों की टीम को लेकर बाढ़ ग्रस्त इलाको की रवाना हुई। टीम में शामिल निरंजन खारोल, मंजूर मेव, नरपत खारोल, सोनू केवट व श्याम केवट ने बटावदापार गांव में बाढ़ के पानी मे फसे देवेन्द्र मेहता, रानी मेहता, हर्ष व नंदनी को सकुशल  सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। क्षेत्र के खुरई गांव में बाढ़ के पानी के बीच एक घर मे फसे 11 लोगो का हेलीकॉप्टर द्वारा रेस्क्यू किया गया। साथ ही एनडीआरएफ की टीम ने इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह के नेतृत्व में बाढ़ के पानी से चारो तरफ से घिरे गैल के वॉल्व स्टेशन पर फंसे 3 लोगो व गोडिय़ामेहर आश्रम पर फसे 6 लोगो का सफलता पूर्वक रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। एनडीआरएफ की दूसरी टीम ने मोतीपुरा थर्मल पावर प्लांट के पम्प हाउस में फसे दो लोगो का सफलता पूर्वक रेस्क्यू किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack