स्वच्छता तभी जब गांव सुन्दर दिखाई भी दें, इसमें कार्पोरेट संस्थानों का जुड़ाव एवं सहयोग महत्वपूर्ण।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास विभाग की प्रमुख शासन सचिव अपर्णा अरोड़ा ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्र में स्वच्छ वातावरण तैयार करने की मुहीम पिछले दो दशक में कई पड़ाव पार कर चुकी है। वर्ष 2018 में राजस्थान प्रदेश के ओडीएफ घोषित होने के बाद 2022 में ओडीएफ प्लस के मानकों को पूरा करने के साथ ही अब ‘‘विजुअल क्लीनिंग्नेस’’ पर जोर दिया जा रहा है। अर्थात गांवों में स्वच्छता मानक पूरे होने के साथ ही गांवों को स्वच्छ दिखना भी चाहिए। विभिन्न कार्पोरेट संस्थाएं सरकार के साथ जुड़कर इस लक्ष्य में कई रूप में सहयोग कर सकती हैं।
अरोड़ा मंगलवार को यहां होटल हॉलिडे-इन में यूनिसेफ के सहयोग से आयोजित एक दिवसीय ‘‘सीएसआर कॉन्क्लेवः रोल ऑफ कार्पोरेट्स इन एक्सीलरेटिंग स्वच्छ भारत मिषन(ग्रामीण)-II इन राजस्थान’’ में कार्पोरेट्स प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर रही थीं ।  उन्होंने कहा कि कार्पोरेट्स के इस अभियान से जुड़ाव का आशय स्वच्छ भारत मिशन में सीएसआर के माध्यम से केवल राशि खर्च करने से ही नहीं है बल्कि विभाग के साथ मिलकर गांवों को स्वच्छ बनाने का लक्ष्य हासिल करना है। कॉन्क्लेव में उपस्थित बीकाजी,  अल्ट्राटेक सीमेंट,  मिराज ग्रुप,  मयूर लैदर एवं अन्य कार्पोरेट संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने गांवों की स्वच्छता के लिए काम करने में रूचि दिखाई है। कुछ संस्थाएं गांवों में स्वच्छता के क्षेत्र में पहले ही काम कर भी रही हैं। पंचायती राज विभाग के शासन सचिव नवीन जैन ने 2000 की आबादी के गांव को आधार मानकर एक आदर्श ओडीएफ प्लस गांव के सम्बन्ध में ‘‘ऑपरेशनलाइजिंग सीएसआर इनिशिएटिव इन एसबीएम (ग्रामीण) -II इन राजस्थान’’ विषयक प्रस्तुतीकरण दिया। साथ ही स्वच्छ भारत मिशन में अनुमत उन सीएसआर गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी जिनसे कार्पोरेट जुड़ सकते हैं। उन्होंने इस मॉडल के वित्तीय पक्ष एवं व्यावहारिकता की माइक्रो लेवल योजना एवं 3 वर्ष का सस्टेनेबिलटी प्लान भी प्रतिभागियों के साथ साझा किया । जैन ने सीएसआर एंगेजमेंट मॉडल्स फोर एसबीएम (ग्रामीण)- II के दो मॉडल्स के जरिए बताया कि कार्पोरेट अपनी सीएसआर गतिविधियों में किसी गांव या ब्लॉक को गोद ले सकते हैं या इसके विभिन्न घटकों की व्यवस्था में सहायता कर सकते हैं। एसबीएम के निदेशक संदेश नायक ने कॉन्क्लेव के आरम्भ में विषय प्रवर्तन करते हुए ओडीएफ, ओडीएफ प्लस और इसके लक्ष्य प्राप्त करने में तकनीकी सहायता, व्यवहार परिवर्तन, क्षमता संवर्द्धन, आईईसी आदि के क्षेत्र में कार्पोरेट की सहयोगी भूमिका के सम्बन्ध में बताया एवं इस वर्ष के लक्ष्यों की जानकारी दी । यूनिसेफ के वाश विशेषज्ञ रूषभ हेमानी ने राजस्थान की विशेष परिस्थिति में एसबीएम द्वितीय में सीएसआर एंगेजमेंट के सम्बन्ध में जानकारी दी । कॉन्क्लेव में कॉर्पोरेट संस्थाओं के प्रतिनिधि, एसबीएम एवं पंचायतीराज विभाग एवं यूनिसेफ के अधिकारी शामिल हुए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack