गहलोत सरकार ने किया अडानी-अंबानी के साथ एमओयू, राहुल गांधी की नहीं कोई परवाह।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गहलोत सरकार का अडाणी से गठजोड़ बताते हुए कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी को जमकर घेरा है।लोकसभा में महंगाई पर हुई मौत का जवाब देते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कांग्रेस आरोप लगाती है मोदी सरकार अंबानी-अडाणी के लिए काम करती है। आप लोग यही कहते हो। सिर्फ दो उदाहरण देना चाहती हूं। उन्होंने कहा कि राजस्थान में सोलर पावर प्रोजेक्ट के लिए 11 जून 2022 और 15 दिसम्बर 2021 में सीएम अशोक गहलोत की कैबिनेट ने डिसीजन लेकर 2397 हेक्टेयर जमीन अडानी रिन्यूएबल एनर्जी होल्डिंग कम्पनी को दी है। लोकसभा में उनके इस वक्तव्य के बाद पूरे सदन में सन्नाटा पसर गया।उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार ने अडाणी को सोलर पावर प्रोजेक्ट के लिए जमीन दी है। हम अडाणी-अंबानी के चक्कर में नहीं आए। आप बुला-बुलाकर अडाणी को जमीनें दे रहे हो। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में दूसरा उदाहरण देते हुए कहा कि 15 दिसम्बर 2021 में अडाणी के रिन्यूएबल एनर्जी पार्क राजस्थान लिमिटेड के साथ एमओयू भी साइन हुआ। 1500 मेगावाट कैपेसिटी सोलर पार्क के लिए राजस्थान के जॉइंट पार्टनरशिप में यह करार हुआ। ये इसलिए इम्पॉर्टेंट है कि इस एग्रीमेंट से पहले राहुल गांधी जयपुर में जाकर कहा कि मोदी सरकार अडाणी और अंबानी का फेवर करती है। ऐसा पब्लिक मीटिंग में कहकर निकल गए। अगले दिन गहलोत एग्रीमेंट कर रहे थे अडानी के साथ। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि उनके अपने ही मुख्यमंत्री  अंबानी-अडाणी को फेवर करते हुए इतने काम कर रहे हैं। उनके पूर्व कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जयपुर में जाकर जो स्टेटमेंट दिए। उसकी परवाह नहीं करते हुए अगले दिन अडाणी के साथ एग्रीमेंट हुए हैं। कांग्रेस वाले बार-बार हमें इधर संसद में टोकते हैं कि अंबानी अडाणी को सरकार। अरे भई आपने बुलाकर दिया। ऐसे ही डीएमके जो कांग्रेस के साथ तमिलनाडु में गठबंधन सरकार में हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि तमिलनाडु में 59 एमओयू साइन किए गए हैं। जिसमें 35 हजार 208 करोड़ का डेटा सेंटर सेट-अप करने के लिए अडाणी के साथ वो भी हाथ मिला रहे हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 12 दिसम्बर को जयपुर की कांग्रेस रैली में राहुल गांधी ने अडानी-अंबानी को फायदा पहुंचाने के मुद्दे पर केन्द्र की मोदी सरकार को निशाने पर लिया था। उन्होंने कहा था- एयरपोर्ट, कोल माइंस, सुपर मार्केट, जहां देखो वहां दो ही लोग दिखेंगे। अडाणीजी-अंबानीजी। गलती उनकी थोड़ी ही है। गलती तो प्रधानमंत्री की है। आपको कोई मुफ्त में कुछ दे देगा तो आप वापस दे देंगे क्या ? प्रधानमंत्री 24 घंटे यही सोचते हैं। सुबह उठते ही कहते हैं अडानी-अंबानी को क्या दें ? चलो आज एयरपोर्ट दे देते हैं। आज किसानों के खेत दे देते हैं, खान दे देते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack