आपदा की इस घड़ी में गहलोत सरकार आमजन के साथ-मंत्री अशोक चांदना।

बूंदी ब्यूरो रिपोर्ट।
युवा मामले, खेल तथा सूचना एवं जनसपंर्क राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि बूंदी जिले में आपदा के इस समय में राज्य सरकार एवं प्रशासन आमजन एवं किसानों के साथ खड़ा है। आपदा से प्रभावित व्यक्तियों एवं काश्तकारों को हर संभव मदद की जाएगी। चांदना ने जिला कलक्टेट सभागार में जिले में अतिवृष्टि हुए नुकसान एवं प्रभावितों के लिए किए जा रहे राहत कार्यों की समीक्षा बैठक लेकर अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होने निर्देश दिए कि जिले के सभी नगरीय क्षेत्रों में गुणवत्तायुक्त पेयजल की उपलब्धता रहे। इसके अलावा जहां जरूरत हो, वहां टेंकरों से जलापूर्ति की जाए। साथ ही नगर निकायों की ओर से पेयजल संबंधी समस्या के समाधान के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि नगर निकाय एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग आपसी समन्वय से आमजन को शुद्ध पेयजल की आपूर्ति कराए।
शीघ्र पूर्ण कराई जाए मुआवजे की प्रक्रिया।
उन्होंने कहा कि अतिवृष्टि से बूंदी जिले के किसानों की फसलों को काफी ज्यादा नुकसान हुआ है। प्रभावित किसानों को फसल का उचित मुआवजा मिले, यह हम सभी की जिम्मेदारी है। फसल खराबे के मुआवजे के लिए सभी आवश्यक कार्यवाही शीघ्र पूरी की जावे। इस कार्य को टास्क के रूप में लेकर किया जाए। कोई भी किसान तकनीकी कारण से मुआवजे से वंचित नहीं रहे। कृषि विभाग भी इस कार्य की मॉनिटरिंग रखे। साथ ही इस कार्य को 15 से 20 दिन में पूरा कर लिया जाए और इसमें किसी तरह की कौताही नहीं बरती जाए।
बीमारीयों से बचाव के लिए हो फोेगिंग।
खेल राज्यमंत्री ने निर्देश दिए कि बरसात के बाद पानी के ठहराव से मच्छरों आदि से उत्पन्न होने वाली मौसमी बीमारियों से आमजन को बचाने के लिए जिलेभर में बडे पैमाने पर फोगिंग करवाई जाएगी। उन्होंने निर्देश दिए कि एक  सितंबर से 15 सितंबर तक प्रतिदिन शहरी क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीणों क्षेत्रों में भी फोगिंग करवाई जाए। उन्होंने जिले में लंपी स्किन की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि अभियान चलाकर संक्रमित मिलने पर पशुओं को आइसोलेट किया जावे। पशुपालकों को बचाव के उपाए बताएं। उन्होंने निर्देश दिए कि लावारिश पशुओं का टीकाकरण भी किया जावे।
प्राथमिकता से कराएं सड़कों को दुरूस्त।
राज्यमंत्री ने अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त सड़कों के संबंध में निर्देश दिए कि सड़कों को प्राथमिकता से दुरूस्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन सड़कों पर आवागामन बंद हो चुका है, उन सड़कों को 24 से 48 घंटे में आने-जाने लायक बनाया जावे। इसके अलावा जिन सड़कों के रिपेयर की जरूरत है, उनके प्रस्ताव भी शीघ्र तैयार कर भिजवाए जाएं। उन्होंने कहा कि भारी बारिश से जिन सरकारी भवनों एंव स्कूल भवनों को नुकसान हुआ है, उनके भी प्रस्ताव अतिशीघ्र भिजवाए जाएं। बैठक में बूंदी जिला प्रमुख चन्द्रावती कंवर, जिला कलक्टर डॉ. रविन्द्र गोस्वामी, जिला पुलिस अधीक्षक जय यादव, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack