कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनाव के बीच आंतरिक सर्वे, 100 दिन में लागू हो उदयपुर नव संकल्प के फैसले।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए काउंटडाउन शुरू हो चुका है। 24 सितंबर से 30 सितंबर तक राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किए जाएंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के बीच पार्टी में संगठनात्मक सुधार और अन्य फैसलों को लागू करवाने के लिए आंतरिक सर्वे चल रहा है, इस आंतरिक सर्वे में मई माह में हुए उदयपुर नव संकल्प शिविर में लिए गए प्रमुख फैसलों को सख्ती से लागू करने की अपील की गई है। यह अपील कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव लड़ने वाले नेताओं से की गई है, जिसमें अभी तक कांग्रेस के हजारों कार्यकर्ताओं ने आंतरिक सर्वे में भाग लेकर अपनी सहमति दी है।
100 दिन में लागू हो उदयपुर नव संकल्प के फैसले।
पार्टी के आंतरिक सर्वे के मुताबिक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव लड़ने वाले नेताओं से सर्वे के जरिए अपील की गई है कि वो उदयपुर नव संकल्प के फैसलों को अध्यक्ष बनने के बाद 100 दिन में लागू करें, जिससे पार्टी में संगठनात्मक सुधार हो और आम कार्यकर्ताओं को भी ब्लॉक लेवल से लेकर शीर्ष लेवल तक मौके मिले।
देश भर के तमाम पीसीसी मेंबर्स को भेजे गए हैं आंतरिक सर्वे के लिंक।
पार्टी के आंतरिक सर्वे का लिंक देशभर के पीसीसी मेंबर को भी भेजे गए हैं। इसके अलावा अन्य कार्यकर्ताओं को भी आंतरिक सर्वे के लिंक भेजे गए, जिसमें आंतरिक सर्वे में दिए गए बिंदुओं को जल्द से जल्द लागू करने पर सहमति प्रकट करने के निर्देश देते हुए अपनी सहमति हां या ना में सब्मिट करने के भी निर्देश दिए गए हैं। अब तक इस आंतरिक सर्वे में देश भर में हजारों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाग लेकर अपनी सहमति दी है।
आंतरिक सर्वे के यह प्रमुख बिंदु।
गांधीवादी मूल्यों का पालन करें, बाबा साहब अंबेडकर के संवैधानिक मूल्यों, धर्मनिरपेक्ष भारत के विचारों का सख्ती से पालन करें और कठोर और धर्म धार्मिक कट्टरवाद से बचें। पार्टी पदों और चुनावी टिकटों में महिलाओं, एससी-एसटी ओबीसी और अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व बढ़ाने के लिए आरक्षण। सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए सद्भावना मिशन और वंचित वर्गों के बीच भविष्य के नेतृत्व का निर्माण करने के लिए नेतृत्व मिशन। नए लोगों और युवाओं के लिए स्थान बनाने के लिए 50 साल से नीचे 50 फ़ीसदी युवाओं को मौका। एक व्यक्ति एक पद" और एक परिवार से एक टिकट फॉर्मूले को सख्ती से लागू करने। अत्यधिक गरीबी को दूर करने और समाज के सभी वर्गों में समृद्ध बनाने के लिए निष्पक्ष न्याय संगत और साम्यिक अर्थव्यवस्था का निर्माण करने जैसे प्रमुख बिंदु शामिल हैं। 
गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से "एक व्यक्ति एक पद" का सिद्धांत लागू करने की बात कही जाती रही, लेकिन इस फैसले को लागू नहीं किया जा रहा था। उदयपुर में मई माह में हुए पार्टी के राष्ट्रीय नव संकल्प शिविर में "एक व्यक्ति एक पद का फॉर्मूला और 50 फ़ीसदी युवाओं को सत्ता और संगठन में भागीदारी देने और एक परिवार से एक व्यक्ति को भी टिकट देने जैसे फैसले लिए गए थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack