लम्पी रोगः गुरूवार तक 12 लाख 74 हजार पशुओं का हुआ टीकाकरण।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने बताया कि कि राज्य सरकार गौवंशीय पशुओं के प्रति सजगता एवं संवेदनशीलता बरतते हुए रोग नियंत्रण के सभी संभावित उपाय कर रही है। कटारिया ने बताया कि हमें इस चुनौति से निपटने लिए ओर मुश्तैदी से काम करना है, ताकि पशुपालकों का नुकसान नही हो। उन्होंने कहा कि राजस्थान की परम्परा रही है कि किसी भी प्रकार आपदा के समय जन प्रतिनिधिगण, स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग मिलता रहा है, और आगे भी मिलता रहेगा। कटारिया ने बताया कि प्रदेश के गौवंशीय पशुओं में फैल रही लम्पी स्किन डिजीज की रोकथाम के लिए राजस्थान कॉपरेटिव डेयरी फेडरेशन एवं पशुपालन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में गौवंशीय पशुओं में टीकाकरण किया जा रहा है, उन्होंने बताया कि अब तक अजमेर 55387, कुचामन सिटी 37697 भरतपुर 59998, चित्तौड़गढ़ 79113 अलवर 80136, जयपुर 34233, झुन्झुनू 3796 बांसवाड़ा 79000 राजसमन्द 8928 कोटा 68645, बूंदी 68545, बांरा 88406, झालावाड़ 87842 प्रतापगढ़ 88456, उदयपुर 60686, सहित 29 जिलों में कुल 12,74,174/ पशुओं में टीकाकरण किया गया हैं एवं प्रदेश में लम्पी से प्रभावित 12.40 लाख पशुओं में अब तक 11.89 लाख पशुओं का उपचार किया जा चुका है जिसमें 7.13 लाख पशु स्वस्थ हो चुुके है। पशुपालन विभाग के शासन सचिव पी. सी. किशन ने बताया कि राजस्थान सीएमआरएफ लम्पी स्किन डिजीज मिटिगेशन फण्ड अकाउन्ट में जमा राशि से लम्पी स्किन डिजीज  के उपचार एवं फॉलोअप हेतु औषधियों की एक किट बनाकर पशुपालको को वितरित करने के आदेश जारी किये गये। किशन ने बताया कि विभाग जल्दी ही सामुहिक टीकाकरण अभियान के तहत आगामी दो महीनों में 40 लाख पशुओं में टीकाकरण का कार्य करेगा, वर्तमान में पर्याप्त स्टॉफ की उपलब्धता होने के कारण वर्तमान टीकाकरण की गति तीस हजार प्रतिदिन को बढाकर एक लाख प्रतिदिन करने का प्रयास रहेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack