बीएसपी प्रदेशाध्यक्ष से खफा होकर 12 जिलों की कार्यकारिणी ने दिया इस्तीफा, लगाए गंभीर आरोप।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रदेश की 12 जिलों की कार्यकारिणी ने पदों से इस्तीफा दे दिया है। बीएसपी के 12 सीनियर नेताओं को 4 जुलाई 2022 को बसपा प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा की ओर से निष्कासित किए जाने के खिलाफ नाराजगी जताते हुए ये इस्तीफे हुए हैं। बाबा के खिलाफ गहरी नाराजगी जताते हुए बीएसपी के प्रदेश मुख्य प्रभारी रामजी गौतम और प्रदेश प्रभारी सुरेश आर्य को पत्र लिखकर इस्तीफे सौंपे गए हैं। जयपुर जिला कार्यकारिणी और पदाधिकारियों में जिलाध्यक्ष रूपनारायण जाटोलिया, जोन प्रभारी रूपचंद रेहड़िया, जिला प्रभारी रामावतार सकरवाल, जितेंद्र चौधरी, जिला महासचिव महेश वाल्मीकि, कोषाध्यक्ष ज्ञानेंद्र कनवाड़िया, महानगर अध्यक्ष हरि नारायण जेदिया, जिला प्रभारी तुलसी दास चिंतामणी, जिला सचिव इंद्रदीप बालोलिया समेत पदाधिकारियों ने इस्तीफे पर साइन किए हैं। बीएसपी की प्रदेश स्तरीय बैठक जयपुर में प्रदेश कार्यालय पर आयोजित हुई। बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय कॉर्डिनेटर आकाश आनंद और प्रदेश मुख्य प्रभारी व राज्यसभा सांसद रामजी गौतम मौजूद रहे। इस दौरान कई जिलों के बसपा कार्यकारिणी के सदस्यों ने पार्टी प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा को तानाशाह और मनमर्जी करने वाले, भ्रष्टाचारी बताते हुए हटाने की मांग रखते हुए अपने इस्तीफे दे दिए। इनमें से 12 जिलों की कार्यकारिणी और विधानसभा स्तर तक की कार्यकारिणी ने इस्तीफे सौंपे हैं।

इन जिलो के पदाधिकारियों ने दिये इस्तीफे।

इन 12 जिलों मे जयपुर शहर और जयपुर ग्रामीण भी शामिल हैं। साथ ही जोधपुर, उदयपुर, चित्तौड़गढ़, प्रतापगढ़, झालावाड़, डूंगरपुर, सिरोही, राजसमंद, धौलपुर, भरतपुर, भीलवाड़ा जिलों की कार्यकारिणी ने इस्तीफे दे दिए हैं। भगवान सिंह बाबा पर पार्टी विरोधी गतिविधियां और तानाशाही करने, मनमर्जी चलाने, भ्रष्टाचार और सीनियर नेताओं का अपमान कर उन्हें निष्कासित करवाने के आरोप लगाए गए हैं। जिलों की कार्यकारिणी ने रामजी गौतम और बसपा सुप्रीमो मायावती से भगवान सिंह बाबा को पार्टी से निकालने की मांग की है। उसके बाद ही पार्टी के लिए काम करने की बात कही है।पदाधिकारियों ने बताया कि प्रदेशाध्यक्ष भगवान सिंह बाबा तानाशाही, मनमानी और दोहरी नीति अपनाते हुए अपने लोगों को आगे करते हैं। सक्रिय कार्यकर्ताओं का अपमान किया जा रहा है। हर सीट पर सौदेबाजी कर पार्टी को खत्म करने का काम किया जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack