ट्रैफिक पुलिस की मंथली वसूली के 13 ऑडियो हुए सार्वजनिक, एसपी ने किया लाइन हाजिर।

डूंगरपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
डूंगरपुर में ट्रैफिक पुलिस की मंथली वसूली के साथ ही हेड कॉन्स्टेबल और बिचौलिए के बीच अवैध वसूली की बातचीत के 13 ऑडियो सार्वजनिक होने से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। इस ऑडियो में गाड़ी मालिकों को रुपए नहीं देने पर चालान काटने या गाड़ी जब्त करने की धमकी दी जा रही है। एसपी राशि डोगरा ने ट्रैफिक इंचार्ज रमेश चंद्र पाटीदार समेत 3 हेड कॉन्स्टेबल सुरेंद्र कुमार, डूलेसिंह और हीरालाल को ट्रैफिक से हटाकर पुलिस लाइन हाजिर कर दिया है। शेयर हुए 13 ऑडियो 20 सेकेंड से लेकर 2 मिनट 21 सेकेंड तक के हैं। इसमें ट्रैफिक हेड कॉन्स्टेबल सुरेंद्र कुमार और बिचौलियों के बीच अवैध वसूली से लेकर धमकी देने तक की पूरी बातचीत रिकॉर्ड है। ऑडियो में हेड कॉन्स्टेबल सुरेंद्र कुमार, बिचौलियों और गाड़ी मालिकों से फोन कर मंथली की डिमांड करता है और नहीं देने पर उनकी गाड़ी का चालान काटने, गाड़ी नहीं चलने देने या फिर जब्त करने की धमकी देता है। मामले में बिचौलिए की भूमिका भी संदिग्ध है, जो डूंगरपुर शहर से चलने वाली सभी गाड़ियों पर निगरानी रखकर उनसे वसूली करता है और फिर ट्रैफिक पुलिस को देता है। हेड कॉन्स्टेबल सुरेंद्र कुमार, ट्रैफिक इंचार्ज रमेशचंद्र पाटीदार का भी वह खास माना जाता है। ट्रैफिक हेड कॉन्स्टेबल के बिचौलिए और गाड़ी मालिकों को फोन कर धमकी देने के कुल 13 ऑडियो सामने आए हैं। इन सभी ऑडियो में गाड़ी मालिकों से पैसे मांगे जा रहे हैं और पैसे नहीं देने पर चालान काटने, गाड़ी जब्त करने की धमकी दी जा रही है।एसपी राशि डोगरा ने बताया कि ऑडियो सामने आए हैं। मामले की जांच की जा रही है। इसके बाद सख्त कार्रवाई की जाएगी। करीब तीन महीने पहले  भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने डूंगरपुर कोतवाली सीआई, धम्बोला थाना सीआई और कोतवाली थाने के कॉन्स्टेबल रीडर और आसूचना अधिकारी को शराब ठेकेदार से 3 लाख 30 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था। इससे पहले रिश्वत में लिए 5 लाख रुपए कोतवाली थाने के रीडर की अलमारी से जब्त किए गए थे। रिश्वत की ये राशि शराब ठेकेदारों से 2 मुकदमों में सेटलमेंट कराने और शराब के ठेकों की बंधी की एवज में ली थी। कार्रवाई जयपुर औार अजमेर एसीबी की संयुक्त टीम ने की थी। इस पूरी कार्रवाई में डूंगरपुर एसपी सुधीर जोशी की भी भूमिका संदिग्ध थी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack