मंत्री राजेंद्र यादव पर आईटी रेड मामलाः कारोबारी फर्म के पार्टनर्स ने 18 करोड़ की अघोषित आय की सरेंडर।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
गृह राज्यमंत्री राजेंद्र यादव के रिश्तेदारों और उनसे जुड़े ठिकानों पर हुई आयकर विभाग की रेड के बाद कारोबारी फर्म के पार्टनर्स ने 18 करोड़ की अघोषित को समर्पित कर दिया है। आयकर विभाग ने अब तक करीब 110 करोड़ रुपए की अघोषित आय पकड़ी है। आयकर विभाग अघोषित आय की 175 करोड़ तक मानकर अपनी जांच कर रहा है। इस पूरी छापेमार कार्रवाई के दौरान आयकर विभाग के अधिकारियों ने 2.90 करोड़ की नकदी और 1.25 करोड़ मूल्य की ज्वेलरी भी जब्त की है। कोविड पीरियड के दौरान मिड-डे मील सप्लाई में गड़बड़ी और वित्तीय अनियमितताओं की सूचनाओं पर आयकर विभाग ने बुधवार से रविवार तक 5 दिन छापेमार कार्रवाई की। इसके बाद अब कागजी और लीगल कार्यवाही की जा रही है। बुधवार को देशभर में 63 ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई शुरू की गई थी। जिसमें राजस्थान के 5 शहरों- जयपुर, कोटपूतली, बहरोड़, भीलवाड़ा, पाली में 40 ठिकानों पर छापेमारी की गई। इनमें से सबसे ज्यादा 30 ठिकाने जयपुर में थे। बनीपार्क, सी-स्कीम, वीकेआई एरिया, सहकार मार्ग, मालवीय नगर, सिविल लाइंस समेत कई जगह यह छापेमारी हुई।भीलवाड़ा में भी किराणा व्यवसायियों के ठिकानों पर छापे डाले गए। हरियाणा में 10, महाराष्ट्र में 11, उत्तराखण्ड में 2 ठिकानों पर छापे डाले गए। गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव के रिश्तेदार कोटपूतली में पोषाहार और मिड डे मील की फैक्ट्री चलाते हैं। जिस पर कार्रवाई की गई। रेड में 300 से ज्यादा आईटी, पुलिसकर्मी और सीआरपीएफ के जवान मौजूद रहे। करीब 100 वाहनों का पूरी रेड में उपयोग किया गया। सूत्रों के मुताबिक लॉकर्स से इनवेस्टमेंट डॉक्यूमेंट्स और प्रॉपर्टी के पेपर्स भी आईटी को मिले हैं। जिनकी पड़ताल की जा रही है। अब तक जब्त दस्तावेजों के आधार पर विभाग 175 करोड़ रुपए तक अघोषित इनकम मानकर चल रहा है। गृह राज्यमंत्री राजेंद्र यादव का दावा है कि मिड डे मिल के सामान की पैकिंग और सप्लाई का काम उनकी कंपनी नहीं कर रही है। उनके कारोबार में कोई गड़बड़ी नहीं है। अगर राजनीतिक द्वेषता के चलते यह कार्रवाई हुई, तो इसका विरोध करेंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack