आसपुर थाने का घूस-खोर ASI और सिपाही 50 हजार रूपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार।

डूंगरपुर-प्रवेश जैन।
स्टांप गड़बड़ी और जमीन के दो अलग- अलग केस में 1 लाख 30 हजार रुपए की रिश्वत मांगने वाले आसपुर थाने के एएसआई सुरेंद्र सिंह और कांस्टेबल विजयपाल सिंह को एसीबी ने ट्रैप कर लिया है। एसीबी ने 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार किया है। वहीं तलाशी के दौरान कांस्टेबल के टेबल पर रखी फाइलो से भी नोट निकलने लगे।एसीबी ने फाइलो से 22 हजार रुपए बरामद किए है, जिनकी जांच चल रही है। डूंगरपुर एसीबी के डीएसपी हेरंब जोशी ने बताया की परिवादी प्रवीण कुमार पटेल ने एसीबी ऑफिस में आकर एक शिकायत दर्ज करवाई। इसमें बताया की उसके और उसके मामा मणिलाल के खिलाफ आसपुर थाने में स्टांप में गड़बड़ी और जमीन के दो अलग- अलग मामले दर्ज है। मामले में एफआर लगाने की एवज में आसपुर थाने के एएसआई सुरेंद्रसिंह पुत्र नाथू सिंह निवासी पीपलादा थाना सदर ने 1 लाख रुपए रिश्वत की मांग की। 
वहीं कांस्टेबल विजयपाल सिंह ने उसके खिलाफ दर्ज केस को हल्का करने, गिरफ्तार उसके मामा मणिलाल के साथ मारपीट नहीं करने व राहत देने के एवज में 40 हजार रुपए की मांग कर रहे है। डीएसपी हेरंब जोशी ने बताया की रिश्वत मांगने के मामले का 7 सितंबर को सत्यापन करवाया गया। जिसमे एएसआई सुरेंद्रसिंह और कांस्टेबल विजयपाल सिंह ने दोनों मामलों का मिलाकर 1 लाख 30 हजार रुपए की रिश्वत मांगने की पुष्टि की। इसके बाद एसीबी ट्रैप की कार्रवाई के लिए जाल बिछाया।एसीबी ने ट्रैप की कार्रवाई के लिए परिवादी को रुपए लेकर भेजा। परिवादी प्रवीण कुमार ने रिश्वत के रूप में 50 हजार रुपए एएसआई सुरेंद्र सिंह को ले जाकर दे दिए। इशारा मिलते ही एसीबी की टीम मौके पर पहुंच गई।एसीबी ने एएसआई सुरेंद्र सिंह की जेब से रिश्वत के रूप में लिए 50 हजार रुपए बरामद कर लिए। वही कांस्टेबल विजयपाल सिंह को भी रिश्वत मांगने के मामले में गिरफ्तार कर लिया।एसीबी ने कांस्टेबल विजयपाल सिंह के थाने के टेबल की दराज की तलाशी ली तो उसमे किया फाइले मिली।एसीबी ने उन फाइलो को खंगालना शुरू किया तो उसमे से रुपए निकलने लगे। एसीबी ने फाइलों से 22 हजार रुपए बरामद किए है। एसीबी की टीम अब ये रुपए कहा से आए और इन्हे फाइलों में क्यों रखे गए। इनकी जांच कर रही है। माना जा रहा हैं की फाइलों में मिले ये 22 हजार रुपए भी रिश्वत में लिए होंगे। एसीबी की टीम मामले में जांच कर रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack