प्रदेश की खेल प्रतिभाओं का आगे लाना राज्य सरकार का मुख्य ध्येय-सीएम गहलोत।

नागौर/जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नागौर के नावां और जयपुर के दूदू में ब्लॉक स्तरीय राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेल गतिविधियों का अवलोकन किया। इस दौरान गहलोत ने खिलाड़ियों से मुलाकात कर उनका उत्साह बढ़ाया। उन्हाेंने विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास, लोकार्पण एवं भूमि पूजन किया। समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा, चिकित्सा, सड़क, बिजली, पानी, कृषि, रोजगार सहित सभी क्षेत्रों में राजस्थान को अग्रणी बनाने के लिए किसी भी तरह की कमी नहीं रखी जा रही है। गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार को राजस्थान की जनकल्याणकारी योजनाओं के मॉडल को पूरे देश में लागू करना चाहिए, ताकि हर वर्ग को संबल मिले।मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेलों के ऐतिहासिक आयोजन से ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहन मिला है। यही खिलाड़ी भविष्य में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश के लिए पदक विजेता बनेंगे। देश में पहली बार राजस्थान में इस अभूतपूर्व आयोजन से गांव-ढाणी में खेलों का माहौल बना है। राज्य सरकार द्वारा अब हर साल ग्रामीण खेलों का आयोजन किया जाएगा। ग्रामीण ओलंपिक के सफल आयोजन के बाद शहरी ओलंपिक पर भी विचार कर रहे हैं। गहलोत ने कहा कि खेल जात-पात, धर्म, अमीरी-गरीबी से अलग है। सिर्फ खिलाड़ी ही मैदान में उतरता है। ग्रामीण ओलम्पिक से गांवों में सामाजिक समरसता का माहौल और बन रहा है। इससे क्षेत्र के चहुमुंखी विकास को भी गति मिलेगी।
खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए अहम निर्णय।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार खेलों के प्रति सकारात्मक माहौल बनाने के लिए अहम निर्णय ले रही है। इसी दिशा में ग्रामीण ओलंपिक एक मजबूत कदम है। इनमें हर आयु वर्ग के लगभग 30 लाख खिलाड़ियों का पंजीकरण खेल के स्वर्णिम भविष्य की ओर इंगित कर रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार खेल और खिलाड़ियों के प्रोत्साहन में कोई कमी नहीं आने देगी। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को सरकारी नौकरियों में 2 प्रतिशत आरक्षण, 229 खिलाड़ियों को आउट-ऑफ-टर्न नियुक्ति, ओलम्पिक व कॉमनवेल्थ पदक विजेताओं तथा गुरू वशिष्ठ व महाराणा प्रताप अवॉर्ड में सम्मान राशि बढ़ाने, मेजर ध्यानचंद स्टेडियम योजनांतर्गत प्रत्येक ब्लॉक में खेल स्टेडियम बनाने सहित कई ऎतिहासिक फैसले लिए हैं। पदक विजेता खिलाड़ियों को संविदा नियुक्तियों में भी प्राथमिकता मिलेगी।
ईआरसीपी को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करें केंद्र सरकार।
उन्होंने प्रधानमंत्री से राजस्थान के 13 जिलों के हित में राजस्थान पूर्वी नहर परियोजना (ईआरसीपी) को राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने की अपील की। उन्होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वे अहिंसा का माहौल बनाने के लिए देशवासियों को संबोधित करें। साथ ही राजस्थान की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए जल जीवन मिशन के तहत ‘हर घर नल‘ पहुंचाने के लिए राज्य को विशेष श्रेणी में रखकर सहयोग करें।
राज्य की जनकल्याणकारी योजनाओं से मिला संबल।
गहलोत ने कहा कि इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना लागू कर अब शहरों में भी जरूरतमंद परिवारों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। मांग अनुसार हर परिवार को 100 दिन का रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों की अनुकरणीय पहल की गई है। गरीब तबके के विद्यार्थियों को निजी विद्यालयों में अंग्रेजी पढ़ने के लिए मोटी फीस से भी निजात मिली है। ये बच्चे भी शुरूआत से ही अंग्रेजी सीखकर अपना भविष्य उज्ज्वल कर सकेंगे। हमारा अगला बजट युवाओं और विद्यार्थियों को समर्पित रहेगा। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में अलग से कृषि बजट पेश कर बजट राशि दोगुनी कर दी गई है। प्रदेश के लगभग 1 करोड़ लोगों को पेंशन देकर सामाजिक सुरक्षा प्रदान की जा रही है।
लम्पी स्किन डिजीज रोकथाम दवा किट वितरण की शुरूआत।
मुख्यमंत्री ने समारोह में लम्पी स्किन डिजीज की रोकथाम के लिए 25 हजार आयुर्वेदिक औषधि किट वितरण की शुरूआत की। यह किट दूदू क्षेत्र के पशुपालकों को वितरित की जाएगी। दूदू समारोह में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि हर जिले में मेडिकल और नर्सिंग कॉलेज की शुरूआत अभूतपूर्व फैसला है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में हर क्षेत्र में हर वर्ग के हितार्थ कार्य किए जा रहे हैं। दूदू और नांवा में उच्च शिक्षा मंत्री राजेंद्र सिंह यादव ने कहा कि राजीव गांधी ग्रामीण ओलंपिक खेलों के माध्यम से युवा ऊर्जा को प्रोत्साहन और नई दिशा मिली है। राज्य सरकार की विभिन्न योजनाएं विद्यार्थियों और युवाओं को समर्पित हैं। नावां विधायक व उप मुख्य सचेतक महेन्द्र चौधरी ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा, खेल और स्वास्थ्य के क्षेत्र में लगातार विकास कार्य हो रहे हैं। दूदू विधायक बाबूलाल नागर ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा दूदू में हुए विकास कार्यों से आमजन को राहत मिली है। नावां समारोह में जायल विधायक मंजू मेघवाल, पूर्व मंत्री हबीबुर्रहमान, पूर्व विधायक जाकिर हुसैन सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी, खिलाड़ी एवं बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे।
नागौर को सौगातें।
• उप तहसील मारोठ
• ब्लड बैंक कुचामन सिटी
• बहुउद्देशीय पशु चिकित्सालय कुचामन
• नव क्रमोन्नत वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय नावां
• नव क्रमोन्नत अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायालय कुचामन
शिलान्यास।
• सीएचसी भवन कुकनवाली
• कुचामन से सुरेरा तक 34 किमी सड़क का विकास एवं उन्नयन कार्य, लागत 37 करोड़ रूपए 
• जयपुर से नावां 10 किमी सड़क का विकास एवं उन्नयन कार्य, लागत 10 करोड़ रूपए
• कुचामन तहसील के गांव-ढाणियों के लिए पेयजल योजना, लागत 116.85 करोड़ रूपए
• नगर परिषद कुचामन में 25 किमी सड़कें, लागत 7.5 करोड़ रूपए
• नगर पालिका नावां में स्वीकृत सड़कें, लागत 4.5 करोड़ रूपए 
भूमि पूजन।
• राजकीय कन्या महाविद्यालय कुचामन
• राजकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय नावां
• राजकीय कृषि महाविद्यालय नावां
• राजकीय वेटनरी महाविद्यालय नावां
• राजकीय उप जिला चिकित्सालय नावां
• खेल स्टेडियम कुचामन सिटी, लागत 1.5 करोड़ रूपए
• ट्रॉमा सेंटर कुचामन सिटी
• पांचोता कुंड का जीर्णोद्धार एवं विकास कार्य, लागत 7.5 करोड़ रूपए
• जोगेश्वर धाम पर्यटन स्थल का जीर्णोद्धार एवं विकास कार्य, लागत 56 लाख रूपए
• खेल स्टेडियम नावां, लागत 1 करोड़ रूपए
दूदू में शिलान्यास।
• उप जिला अस्पताल दूदू का नवीन भवन, लागत 40 करोड़ 93 लाख रूपए
• राजकीय कन्या महाविद्यालय दूदू, लागत 4 करोड़ 50 लाख रूपए
• दूदू ब्लॉक में अम्बेडकर भवन, लागत 49.62 लाख रूपए
• फागी ब्लॉक में अम्बेडकर भवन, लागत 37.04 लाख रूपए
लोकार्पण।
• राजकीय महाविद्यालय दूदू में विज्ञान संकाय
• राजकीय कन्या महाविद्यालय दूदू का अस्थाई भवन
• राजकीय महाविद्यालय फागी में विज्ञान एवं वाणिज्य संकाय

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack