बांग्लादेश की पीएम ने गुलाबी नगरी में कलाकारों के साथ ताल से मिलाई ताल, ख्वाजा के दर पर लगाई हाजिरी।

जयपुर/अजमेर ब्यूरो रिपोर्ट।
भारत दौरे पर आई बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना का गुरुवार को जयपुर के सांगानेर एयरपोर्ट पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। शेख हसीना एयरपोर्ट से सीधे अजमेर स्थित ख्वाजा गरीब नवाज दरगाह शरीफ पर जियारत के लिए रवाना हुई। शेख हसीना तय कार्यक्रम के अनुसार प्रातः 10 बजे जयपुर एयरपोर्ट पहुंची। एयरपोर्ट पहुंचने पर कला एवं संस्कृति मंत्री बी.डी. कल्ला, मुख्य सचिव उषा शर्मा, पुलिस महानिदेशक एम. एल. लाठर, सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव जितेंद्र कुमार उपाध्याय एवं जयपुर जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने पुष्पगुच्छ भेंट कर उनका स्वागत किया। 
जयपुर एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री के स्वागत में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम कालबेलिया एवं कच्ची घोड़ी नृत्य का आयोजन भी किया गया। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने राज्य की लोक कला की सराहना करते हुए कलाकारों से बातचीत भी की। उन्होंने कलाकारों की प्रस्तुतियों का आनंद लिया और उनके साथ नृत्य भी किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री के साथ बांग्लादेश से आये अन्य प्रतिनिधि तथा राज्य के संबंधित विभागों के उच्च अधिकारी भी मौजूद थे।
शेख हसीना ने ख्वाजा के दर पर लगाई हाजिरी।
बांग्लादेश प्रधानमंत्री शेख हसीना अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ जयपुर से सड़क मार्ग से अजमेर पहुंचीं। सर्किट हाउस में कुछ देर विश्राम करने के बाद उनका काफिला विश्व विख्यात सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह पहुंचा। 
जहां निजाम गेट पर उनका शाही पारंपरिक तरीके से स्वागत किया गया। उनके इस्तकबाल के लिए रेड कारपेट बिछाया गया। वहीं शादियाने बजाए गए। निजाम गेट पर दरगाह के खादिम सैयद कलीमुद्दीन चिश्ती ने अंजुमन कमेटी के पदाधिकारियों से परिचय करवाया। दरगाह कमेटी के नाजिम और दरगाह दीवान के प्रतिनिधि साहबजादे सैयद नसीरुद्दीन चिश्ती भी मौजूद रहे। यहां से आस्ताने शरीफ पहुंच कर बांग्लादेश प्रधानमंत्री ने ख्वाजा गरीब नवाज की मजार पर मखमली चादर और अकीदत के फूल पेश किए। बांग्लादेश पीएम ने भारत-बांग्लादेश के आपसी रिश्तों की बेहतरी और दोनों मुल्कों में अच्छे संबंध बने रहने की दुआ मांगी। जियारत के बाद दरगाह के खादिम सैयद कलीमुद्दीन चिश्ती ने उनकी दस्तारबंदी की।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack