लंपी को लेकर भाजपाइयों ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने लिया हिरासत में।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
लंपी स्किन डिजीज से हो रही गोवंश की मौत के विरोध में भाजपा ने विधानसभा की ओर कूच किया। प्रदेश भाजपा मुख्यालय से प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के नेतृत्व में कार्यकर्ता और नेता पैदल ही विधानसभा की ओर रवाना हुए। लेकिन 22 गोदाम सर्किल से पहले पुलिस ने उन्हें रोक दिया। इस दौरान भाजपाइयों की पुलिस से झड़प भी हुई। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने पुलिस को गिरफ्तारियां दी। विधानसभा कूच से पहले प्रदेश भाजपा मुख्यालय के बाहर एक बड़ी जनसभा हुई, जिसे पार्टी से जुड़े नेताओं ने संबोधित किया। 
इस दौरान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया सहित तमाम वक्ताओं ने मौजूदा गहलोत सरकार को गौ हत्यारी सरकार करार दिया। वहीं पूनिया ने यह तक कह दिया कि अभी श्राद्ध पक्ष चल रहे हैं और जल्द ही प्रदेश की कांग्रेस सरकार का श्राद्ध हो जाएगा। सतीश पूनिया ने कहा कि राजस्थान में जिस प्रकार लंपी के बीच गहलोत सरकार की संवेदनहीनता देखने को मिली है। उससे आम जनता आक्रोशित हैं। पुनिया ने कहा हम विपक्ष के नाते सदन में और सड़क पर भी इस मामले को उठा रहे हैं। सरकार से मांग करते हैं कि इस बीमारी से जिस पशुपालक के गोवंश की मौत हुई है उसे 50 हजार का मुआवजा दें। पुनिया ने कहा इन मुद्दों को लेकर जयपुर में आंदोलन का आगाज हुआ है। जल्द ही प्रदेश के अलग-अलग जिलों में इसी प्रकार के विरोध प्रदर्शन होंगे। पूनिया ने कहा गहलोत सरकार केंद्र सरकार से इस बीमारी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग करती है, लेकिन मुख्यमंत्री राजस्थान की जनता को केवल गुमराह कर रहे हैं। पूनिया ने कहा कि गुजरात, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और हरियाणा में स्थानीय प्रदेश सरकारों ने इस रोग से बचाव के लिए बेहतरीन उपाय किए। आरोप लगाया कि राजस्थान की सरकार इसमें नाकाम रही, क्योंकि प्रदेश की कांग्रेस सरकार की गौ माता के प्रति संवेदनाएं मर चुकी हैं, यह सरकार गौ हत्यारी सरकार है। 
22 गोदाम सर्किल पर पुलिस से हुई झड़प, अरूण चतुर्वेदी चोटिल।
भाजपा मुख्यालय से पैदल मार्च के रूप में रवाना हुए बीजेपी प्रदर्शनकारियों को 22 गोदाम सर्किल पर पुलिस ने रोक लिया। इस दौरान सतीश पूनिया और भाजपा नेताओं ने बैरिकेडिंग पर चढ़कर विधानसभा की ओर बढ़ने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस बल ने उन्हें वहीं रोक दिया। जिसके बाद वह तमाम नेताओं के साथ धरने पर बैठ गए। इस दौरान भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की पुलिस से झड़प भी हुई। वे बेरिकेडिंग पर चढ़ गए। इस दौरान सतीश पूनिया कुछ देर तक बैरिकेडिंग पर ही रहे। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ अरुण चतुर्वेदी को भी हल्की चोट आई। उन्हें उपचार के लिए एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर में ले जाया गया। कुछ देर बाद भाजपा प्रदर्शनकारियों ने पुलिस को गिरफ्तारियां दीं। पुलिस बल ने बसों में बैठाकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया और तमाम नेताओं को हिरासत में लिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack