अवैध खनन गतिविधियों पर सख्ती जारी, राजस्व वसूली में बीकानेर, राजसमंद, भीलवाड़ा और जयपुर वृत आगे।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राज्य के माइंस विभाग ने चालू वित्तीय वर्ष में अगस्त माह तक 2588 करोड़ 93 लाख रुपए का रेकार्ड राजस्व अर्जित किया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि यह पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में 614 करोड़ 63 लाख रुपए से भी अधिक हैं वहीं सामान्य वर्ष 2019-20 की तुलना में भी 968 करोड़ रु. अधिक राजस्व अर्जित किया गया है। 2020-21 में कोरोना काल के कारण समूचे देश में आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होने से राजस्व कम रहा था इसलिए उससे विभाग द्वारा तुलना भी नहीं की जा रही है। एसीएस माइंस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने कहा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और माइंस व गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया कि राज्य में अवैध खनन, परिवहन और भण्डारण के विरुद्ध जीरो टोलरेंस नीति का ही परिणाम है कि गत डेढ माह से प्रदेश मेंं माइंस, पुलिस, प्रशासन व वन विभाग द्वारा संयुक्त कार्यवाही करते हुए बड़ी मशीनों की जब्ती, एफआईआर, गिरफ्तारी जैसे सख्त कदम लगातार जारी है। डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य में अगस्त माह मेें 598 करोड़ 26 लाख रुपए का राजस्व अर्जित किया गया है जबकि इससे पहले के साल अगस्त 21 में 446 करोड़ 19 लाख रुपए का राजस्व जमा हुआ था। इसी तरह से इस वित्तीय वर्ष के अगस्त माह में 2588 करोड़ 93 लाख का राजस्व प्राप्त हो चुका है जबकि गत वर्ष इसी अवधि में 1974 करोड़ 79 लाख रु. का ही राजस्व अर्जित हुआ था। उन्होंने बताया कि गत वित्तीय वष की तुलना में 31 प्रतिशत विकास दर के साथ राजस्व वसूली में बढ़ोतरी हुई है। एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि गत वित्तीय वर्ष में माइंस विभाग द्वारा रेकार्ड 6395 करोड़ का राजस्व वसूली के चलते राज्य सरकार के वित विभाग ने इस साल माइंस डिपार्टमेंट का राजस्व लक्ष्य में बहुत अधिक बढ़ोतरी करते हुए 8 हजार करोड़ का लक्ष्य तय किया है। विभाग द्वारा 8 हजार करोड़़ की राजस्व वसूली के लक्ष्य को चुनौती पूर्ण रखते हुए अगस्त माह तक 32 प्रतिशत राजस्व अर्जन के लक्ष्य विभागीय अधिकारियों को दिए थे। उन्होंने बताया कि लक्ष्यों के विरुद्ध सर्वाधिक 197.35 प्रतिशत वसूली के साथ एएमई टोंक संजय शर्मा रहे है। एमई मकराना महेश पुरोहित ने 180.34 प्रतिशत, एमई जैसलमेर भगवान सिंह ने 159.05, एमई बीकानेर राजेन्द्र बलारा, ने 157.44, एएमई सवाईमाधोपुर गौरव मीणा ने 140.35, एमई बिजौलिया प्रकाश माली ने 130.79, एमई करौली सुनील शर्मा ने 124.67, एमई सीकर रामलाल चौधरी ने 122.28 प्रतिशत व एमई बूंदी देवी लाल बंशीवाल ने 120.22 प्रतिशत उपलब्धि अर्जित की है। इसी तरह से एसएमई वृत कार्यालयों में एसएमई बीकानेर भीमसिंह ने 135.05 प्रतिशत, एसएमई राजसमंद ओपी काबरा ने 104.65 प्रतिशत, एसएमई भीलवाड़ा कमलेश बारेगामा ने 103.56 प्रतिशत और एसएमई जयपुर प्रताप मीणा ने राजस्व वसूली में सौ प्रतिशत से अधिक उपलब्धि अर्जित की है।ब्यावर और सलूंबर में 50 प्रतिशत से भी कम की वसूली रही है। डॉ. अग्रवाल ने बताया कि विभाग द्वारा छीजत रोकने और राजस्व बढ़ाने के लिए समन्वित प्रयास, विभागीय मोनेटरिंग व्यवस्था को मजबूत करने और नियमित मोनेटरिंग से राजस्व बढ़ाने में उल्लेखनीय सफलता अर्जित हुई है। योजनाबद्ध तरीके से अवैध खनन व परिवहन गतिविधियों पर कार्यवाही में तेजी लाई गई है वहीं वैध खनन को बढ़ावा देने के लिए नीलामी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाया गया है। निदेशक माइंस केबी पण्ड्या ने बताया कि समन्वित व समग्र प्रयासों से खान विभाग द्वारा राजस्व वसूली के प्रयासों में तेजी लाई गई है। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा अवैध खनन व परिवहन गतिविधियों पर सख्त कार्यवाही की जा रही है जिसके सकारात्मक प्रभाव लगातार सामने आ रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack