राजस्थान सूक्ष्म सिंचाई मिशन और आत्मा शाषी परिषद की बैठक आयोजित।

श्रीगंगानगर-राकेश मितवा।
जिला श्रीगंगानगर में वर्ष 2022-23 में कृषि विभाग द्वारा संचालित कार्यक्रमों के प्रभावी, गुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन एवं प्रगति पर विचार विमर्श हेतु कृषि विभाग, उद्यान विभाग व आत्मा परियोजना की बैठकों का आयोजन रूकमणी रियार जिला कलक्टर की अध्यक्षता में जिला कलक्टर सभागार कक्ष में किया गया। बैठक में संयुक्त निदेशक कृषि डॉ. जी.आर. मटोरिया द्वारा कृषि विभाग के जिला स्तरीय आकडों को पॉवर प्वाइन्ट प्रजेन्टेशन (पीपीटी) के माध्यम से स्लाईड द्वारा प्रस्तुत किया गया। डॉ. मटोरिया द्वारा राजस्थान में कृषि जलवायुवीय खण्डवार सम्मलित जिले, श्रीगंगानगर कृषि जलवायु खण्ड प्रथम-बी की विभिन्न परिस्थितियों के अनुसार बुवाई हेतु फसल चयन, विभिन्न फसलों की जल-मांग, बुवाई का उपयुक्त समय, बीज दर एवं प्रमुख फसलों की पोषक तत्व एंव उर्वरक संबंधी आवश्यकताओं इत्यादि के विषय में आधारभूत एवं सारर्गभित जानकारी दी गई। डॉ. मटोरिया द्वारा खरीफ एवं रबी मौसम में बोई गई विभिन्न फसलों का फसलवार एवं वर्षवार क्षेत्रफल, उत्पादन एवं उत्पादकता के आंकड़ों का ब्यौरा प्रस्तुत किया जाकर विभाग द्वारा रबी 2022-23 में जिले के लिए फसलवार बुवाई हेतु निर्धारित किए गए लक्ष्यों का विवरण प्रस्तुत किया गया। बैठक में जिले में बीज वितरण व उर्वरक उपलब्धता पर चर्चा की गई तथा जिले के उर्वरक निरीक्षकों को निर्देशित किया गया कि जिलें में रबी 2022-23 में युरिया की मांग 135000 मैट्रिक टन है जिस हेतु स्थानीय उर्वरक विक्रेताओं व कृषकों से सम्पर्क कर आग्रह किया जावे कि रबी सत्र में प्रति माह मांग के अनुसार उर्वरक उपलब्ध करवाने की कार्यवाही की जा चुकी है। अतः उर्वरकों का अनावश्यक रूप से संग्रहण नही करें। कृषक कल्याणकारी योजनाओं के अन्तर्गत प्रधानमंत्राी कृषक सिंचाई योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, परम्परागत कृषि विकास योजना, नेशनल मिशन आनॅ एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एण्ड टेक्नोलॉजी (एनएमएईटी) व राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के माध्यम से कृषक कल्याण की समस्त योजनाओं की विस्तृत चर्चा करते हुए उक्त योजनाओं को संचालित करने में स्थानीय स्तर पर आ रही समस्याओं बाबत् अवगत करवाया गया तथा कृषि विभाग, उद्यान विभाग व आत्मा योजना के उच्चाधिकारियों द्वारा योजनाओ के सफल क्रियान्वयन हेतु जिला स्तरीय कार्य योजना तैयार कर शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति का आश्वासन दिया गया। डॉ. मटोरिया द्वारा नेशनल मिशन फोर सस्टेनेबल एग्रीकल्चर वर्षा आधारित क्षेत्र विकास कार्यक्रम के तहत वर्ष 2022-23 के लिए उपजिला रायसिंहनगर में ग्राम पंचायत 43 पीएस (सांवतसर) के चक के गांव 30 पीएस ए, 30 पीएस बी, 40 पीएस, 41 पीएस, 42 पीएस, 43 पीएस, 44 पीएस व दुल्लरासर के सिंचित क्षेत्र 2235.225 है0 व असिंचित क्षेत्र 1396.22 है0 कुल क्षेत्र 3632.147 है0 हेतु 63 कृषकों को कृषि, उद्यानिक पशु पालन व वानिकी पद्वति के तहत  राशि 24.15 लाख से लाभान्वित करने के प्रस्ताव का सर्वसम्मति से अनुमोदन किया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack