सब्र और टैलेण्ट का कोई तोड़ नहीं, बस यही निष्कर्ष है।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
यदि आपमें टैलेण्ट है और दुनिया उसको पहचानती है तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता बस शर्त ये है कि आपमें सब्र भरपूर हो। ये कहना है जयपुर से मुम्बई आये टीवी जगत के कलाकार “निष्कर्ष कुलश्रेष्ठ” का जो पिछले लगभग आठ-नौ सालों से मायानगरी में अपनी पहचान बनाने में लगातार जुटे हुए हैं। कॉलेज पास करते ही मुम्बई का रुख़ करने के बाद निष्कर्ष ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा, इसी बदौलत आने वाले वक़्त में वो OTT पर भी अपने पैर जमाने में लग गये हैं। zee 5, Disney HotStar और भी कई जगह वो जल्द नज़र आने वाले हैं। सन् 2014 में चैनल V पर ‘गुमराह’ में शरद नाम के किरदार ने छोटे पर्दे पर बड़ा नाम कमाया था।
इसी के साथ निष्कर्ष ने सोनी, कलर्स, लाइफ़ OK, स्टार प्लस, सब टीवी, ज़ी टीवी पर अलग अलग किरदार निभाकर दर्शकों के दिल में एक अलग जगह बनायी है।निष्कर्ष ने पिछले दिनों सोनी टीवी के बहुचर्चित सीरियल “मेरे साँई” में ‘रघुनाथ’ के चरित्र को बख़ूबी निभाया और टीवी इण्डस्ट्री में अपने टैलेण्ट से आकर्षक युवा की छवि बनायी है। निष्कर्ष ने बताया कि यहाँ मुम्बई में रोज़ाना हज़ारों युवा अपना टैलेण्ट लेकर तो आते हैं मगर सब्र और अपने आप को लगातार सीखने की कला से ज़्यादातर युवा चूक जाते हैं, इसी कारण उनका मन विचलित हो जाता है और वो कोई और राह पर चल देते हैं। उभरते हुए कलाकारों के बारे में निष्कर्ष का कहना है कि मुम्बई में काम करने की पहली शर्त है आपका हुनर और कुछ नया सीखने के साथ साथ समय की पाबन्दी। उनका कहना था कि यह सब नदी के दो किनारे की तरह है जहाँ एक ओर वो लोग हैं जो नये और प्रतिभाशाली कलाकारों की तलाश में हैं और दूसरे छोर पर वे लोग हैं जो अपने हुनर को दिखाने के लिये दिनरात मेहनत कर रहे हैं। बस ज़रूरत है तो सिर्फ़ सही कलाकार को सही काम देने वालों की। OTT के लगातार पॉपुलर होने और नये चेहरों को आगे आने के प्रश्न के जवाब में निष्कर्ष ने कहा कि यहाँ अच्छा काम करने वालों की हमेशा से ही माँग रही है और मुम्बई आने वाला युवा चाहे किसी भी विधा से हो, बस सब्र और सही दिशा में अपनी कड़ी मेहनत करे तब ही उनको अपना मनचाहा मुक़ाम मिल सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack