झूठा मामला दर्ज कराना परिवादी को पड़ा भारी, कोर्ट ने सुनाई तीन माह की सज़ा।

सवाई माधोपुर-हेमेन्द्र शर्मा।
विशेष न्यायालय पोक्सो सवाईमाधोपुर ने नाबालिग से छेड़छाड़ का झूठा मुकदमा दर्ज कराने पर एक परिवादी को तीन माह का कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही न्यायालय ने आरोपी परिवादी को दो हजार रुपये के अर्थदण्ड से भी दंडित किया है। सवाईमाधोपुर का यह पहला मामला है। जब पोक्सो न्यायालय ने झूठा मुकदमा दर्ज कराने वाले परिवादी को सजा सुनाई है। विशिष्ट लोक अभियोजक अनिल कुमार जैन ने बताया कि नींदडदा निवासी जसराम मीणा ने 26 जून 2019 को परिवाद के जरिये सुरवाल थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया था। जिसमे अपने ही छोटे भाई पर अपनी नाबालिग पुत्री से छेड़छाड़ एंव मारपीट करने का आरोप लगाया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए सुरवाल थाना पुलिस ने मामले की गहनता से जाँच की तो पूरा मामला झूठा निकला। जिस पर न्यायालय के आदेश पर सुरवाल थाना पुलिस द्वारा परिवादी जसराम मीणा के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराने का मामला दर्ज किया गया और न्यायालय में परिवादी के खिलाफ ही झूठा मुकदमा दर्ज कराने के साक्ष्य प्रस्तुत किये गए । मामले की सुनवाई करते हुए विशेष न्यायालय पॉक्सो ने परिवादी जसराम मीणा को झूठा मुकदमा दर्ज कराने का दोषी मानते हुए तीन माह के कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही न्यायालय ने आरोपी को दो हजार रुपये के अर्थदण्ड से भी दंडित किया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack