विभिन्न मांगों को लेकर पार्षदों ने किया अर्धनग्न प्रदर्शन, कलेक्टर ने आयुक्त को किया सस्पेंड।

करौली ब्यूरो रिपोर्ट।
करौली मे गुरूवार को 10 सुत्रीय मांगों को लेकर नगर परिषद के भाजपा के पार्षदों ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया और अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये। वही जिला कलेक्टर अंकित कुमार ने लापरवाही बरतने पर नगर परिषद आयुक्त को निलंबित कर दिया। दरअसल 10 सूत्रीय मांगों को लेकर करौली नगर परिषद के पार्षद जिला कलेक्ट्रेट के सामने अर्धनग्न होकर धरने पर बैठ गए। विपक्ष के नेता कुलदीप सिंह ने बताया कि जब तक जन समस्याओं का समाधान नही होगा धरना जारी रखेगा। उन्हें बताया कि परिषद के गठन के बाद से नगर परिषद मे अव्यवस्था फैली हुई है। लेकिन पार्षदों द्वारा कई बार जिला प्रशासन और नगर परिषद प्रशासन को अवगत कराने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। 

यह पार्षदों की मांग।

पार्षद कुलदीप सिंह ने बताया कि नगर परिषद में आयुक्त पर सक्षम अधिकारी की नियुक्ति की जाए। परिषद क्षेत्र में सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करवाया जाए। सर्वे के अनुसार स्ट्रीट लाइट लगवाई जाए। आवारा पशुओं की समस्या से निजात दिलाई जाए। सीवरेज के समुचित प्रबंध किए जाएं। नगर परिषद बोर्ड की नियमानुसार बैठक करवाई जाए, नगर परिषद क्षेत्र में करवाए गए विकास कार्यों की गुणवत्ता की जांच करवाई जाए और अधूरे कामों को पूरा करवाया जाए।
कलेक्टर ने आयुक्त को किया निलंबित।
जिला कलेक्टर अंकित कुमार सिंह ने एक आदेश जारी करते हुए नगर परिषद के आयुक्त नरसी मीणा को निलंबित कर दिया है। जिला कलेक्टर द्वारा जारी आदेश में बताया गया है कि नगर परिषद के आयुक्त नरसी मीणा द्वारा प्रशासन शहर के संग अभियान में नगरीय विकास आवासन एवं स्वायत्त शासन विभाग जयपुर के जारी दिशा-निर्देशों की समुचित पालना नहीं किए जाने एवं लापरवाही करने के कारण आयुक्त को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है। निलंबन काल में आयुक्त का मुख्यालय जयपुर रहेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack