विधानसभा की कार्यवाही चढी हंगामे की भेंट, पुष्कर विधायक गाय को लेकर पहुंचे विधानसभा।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
विधानसभा की कार्यवाही सोमवार को शुरू होते ही भाजपा विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। भाजपा विधायकों ने वेल में आकर सवालों का कोटा खत्म करने के मुद्दे पर हंगामा और नारेबाजी शुरू कर दी। भाजपा के हंगामे और नारेबाजी के कारण आठ मिनट बाद ही विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने 11 बजकर 22 मिनट तक के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। कार्यवाही फिर से शुरू हुई तो भाजपा विधायकों का वेल में हंगामा और नारेबाजी जारी रही।हंगामे के बीच ही सदन में  विधानसभा अध्यक्ष डॉ. जोशी ने राज्यपाल के लौटाए गए दो बिलों का ब्यौरा रखा। इसके बाद चार बिल सदन में रखे गए।हंगामा बढ़ने पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. जोशी ने दूसरी बार 5 मिनट के लिए सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि विधानसभा के बजट सत्र का सत्रावसान नहीं करके सीधे बैठक बुलाई गई। इन छह महीने के पीरियड में खूब उठापटक हुई, जिसके बारे में सवाल बनते हैं। पहली बार हुआ है कि विधायक सवाल नहीं पूछ पा रहे। जिन विधायकों का 100 सवालों का कोटा पूरा हो गया उसे सवाल पूछने से बैन कर दिया। हमारे अधिकारों का हनन किया है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा बीच में बोलने लगे और कहा कि ये किस मुंह से बोल रहे हैं। बीजेपी राज में इन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी थी। इसके बाद हंगामा बढ़ गया। हंगामा बढ़ता देख स्पीकर ने सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। पुष्कर से भाजपा विधायक सुरेश सिंह रावत लंपी बीमारी और गायों की मौतों को लेकर विरोध जताने एक गाय लेकर विधानसभा पहुंचे। विधानसभा के बाहर से ही गाय रस्सी छुड़ा कर भाग गई। गाय सड़क पर इस कदर भागी कि गाड़ियों से गुजर रहे लोगों में भी घबराहट फैल गई। इस दौरान एक बारगी विधानसभा के बाहर सुरक्षाकर्मियों में भी अफरा-तफरी का माहौल हो गया। इसके बाद विधायक रावत ने कहा कि सरकार और पुलिस से नाराज होकर यह गाय भागी है। गाय की नाराजगी मुझसे नहीं है। क्योंकि मैंने तो 10 लाख रुपए दिए हैं। विधानसभा में लंपी और गायों की मौत का मुद्दा उठाया जाएगा। आरएलपी के तीन विधायकों ने विधानसभा के वेल में आकर लंपी से गायों को बचाने के स्लोगन लिखी तख्तियां लहराईं। तीनों बीजेपी विधायकों के साथ वेल में थे। आरएलपी विधायक दल के नेता पुखराज गर्ग, विधायक नारायण बेनीवाल और इंद्रा बावरी ने सदन में तख्तियां लहराकर विरोध जताया।कार्यवाही शुरू होने से पहले ही भाजपा विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी के चैंबर में धरना दिया। भाजपा विधायकों ने सवाल पूछने का कोटा खत्म हो जाने के विरोध में स्पीकर के चैंबर में धरने पर बैठकर विरोध जताया। भाजपा  विधायकों का तर्क था कि बजट सत्र को बीच में खत्म नहीं किया, लगातार जारी रखा। इस वजह से एक सत्र में सवाल पूछने का कोटा खत्म हो गया। अब नए सवाल नहीं पूछ सकते। अगर सत्रावसान करके विधानसभा की बैठकें बुलाई जाती तो विधायकों को सवाल पूछने का नया कोटा मिलता। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ सहित वरिष्ठ विधायक धरने पर बैठे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack