बहुत से समुदाय आज भी अपने परिवार के रूप में वनस्पति और जीवों की रक्षा करते है-मंत्री हेमाराम चौधरी।

बाड़मेर ब्यूरो रिपोर्ट।
बाड़मेर के स्मृति उद्यान में वन एवं पर्यावरण मंत्री हेमाराम चौधरी की उपस्थिति में राष्ट्रीय वन शहीद दिवस का आयोजन किया गया, जिसमें वन शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री हेमाराम चौधरी ने कहा कि आज भी ऐसे बहुत से समुदाय और गांव है जहां आजीविका के एकमात्र स्त्रोत जंगल है और लोग वनस्पति और जीवों की रक्षा अपने परिवार के सदस्यों की तरह करते हैं। उन्होंने कहा कि यह दिन वन शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने एवं पर्यावरण संरक्षण में उनके योगदान की सराहना करने के लिए मनाया जाता है। उप वन संरक्षक संजय प्रकाश भादू ने बताया कि राष्ट्रीय वन शहीद दिवस के मौके पर देशभर में उन कार्मिकों का सम्मान किया जाता है जिन्होंने भारत में वन्यजीवों एवं जंगलों की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है। उन्होंने बताया कि वन विभाग के वन रक्षकों, कर्मचारियों, अधिकारियों के बलिदान को याद करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack