विधायक भरत सिंह ने स्पीकर बिरला को लिखा पत्र बोले-राजस्थान में आने वाले "चीता" चित्त क्यों हो गऐ ?

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
कोटा के सांगोद विधायक भरत सिंह ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखकर निशाना साधा है। उन्होंने पत्र मे चिता को लेकर जिक्र करते हुए जमकर कटाक्ष किया है। विधायक भरत सिंह ने स्पीकर बिरला को पत्र लिख कहा है कि समाचार पत्र में प्रमुखता से छपी उस खबर की और आपका ध्यान दिलवाना चाहता हूँ, जो कूनो अभ्यारण में चीते छोडने से संबन्ध रखती है। इस विषय पर आपको समय समय पर पत्र लिख चुका हूँ मगर आपकी अरूचि के कारण ही जो "चीता" आपके लोकसभा क्षेत्र के मुकंदरा क्लोजर में छोड़े जाने थे वह नही आ सके। केन्द्र सरकार की राजनीति तथा आपकी अरूचि से कोटा में आने वाले चीता चित्त हो गऐ है। पर्यटन के विकास की दुआ देने वाले व चम्बल में कूज चलाने व होवरकाफट की योजना का सपना दिखाने वाले "चीता" को बसाने पर क्यो मोन रहे है, यह क्षेत्र की जनता आपसे जानना चाहती है। 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी "कूनो अभ्यारण" में चीता छोड़कर अपना जन्मदिन मनावेंगे। क्या यह मुकंदरा में नही हो सकता था? क्या आपने ईमानदारी से कभी चीता को आपके लोकसभा क्षेत्र में बसाने हेतु प्रयास किया था? आपने सुनहरा अवसर खोकर कोटा लोकसभा तथा प्रदेश की जनता को निराश किया है। सच यह है कि राजस्थान सरकार ने तो "चीता" लाने की रूचि दिखाई मगर आपने व केन्द्र सरकार ने इस प्रयास का राजनीतिकरण कर "चीता" को चित्त कर दिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack