राजीविका की ओर से 10 दिवसीय दीपावली मेले में महिलाओं ने प्रदर्शित किए कलात्मक उत्पाद।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद (राजीविका) की ओर से जवाहर लाल नेहरू मार्ग स्थित इंदिरा गांधी ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान में ‘‘रोशनी खुशियों की’’ थीम पर 10 दिवसीय राज्य स्तरीय दीपावली मेले का शुभारम्भ हुआ। मेले में राजीविका से जुडे़ 33 जिलों के 90 स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं ने अपने कलात्मक एवं बहुउपयोगी उत्पादों का प्रदर्शन किया। मेले में स्वयं सहायता समूह द्वारा निर्मित ऐसे उत्पादों का विशेष रूप से प्रदर्शन किया जा रहा है, जिन्हें  लोग दीपावली पर अपनाें को उपहार के रूप में भेंट कर सकते हैं। मेले में आकर्षक कॉटन हैंडबैग, हैंडमेड पेपरबैग, ब्लू पॉटरी दीपक, लैंप, अगरबत्ती स्टैंड, साबुन दानी, हैंडीक्राफ्टस, कशीदाकारी, मीनाकारी तथा हैंडमेड शीट से तैयार पैन, डायरी, फोल्डर जैसे कई मनभावन कलात्मक वस्तुएं उपलब्ध हैं।
स्वयं सहायता समूहों द्वारा हस्त निर्मित एलोवेरा, ग्लिसरीन व बकरी के दूध से तैयार साबुन स्टॉल पर प्रदर्शित किए गए हैं। राजीविका दीपावली मेले में त्योहार को देखते हुए मिठाई के रूप में विशेष स्टॉल लगाए गए हैं। इन पर शुद्ध देसी घी के बने बेसन, मेंथी, मूंग दाल, गोंद के लड्डू, बाजरे से बने चॉकलेट बिस्किट, केक एवं अन्य उत्पाद रखे गए हैं।उल्लेखनीय है कि राजीविका स्वयं सहायता समूहों की लाखों महिलाओं के आर्थिक सम्बल के लिए लगातार प्रयासरत है, और उनकी आय बढ़ाने एवं उत्पादों के विक्रय के लिए मंच उपलब्ध करवाने के लिए समय-समय पर मेले आदि का आयोजन करता है। शुक्रवार को ही स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं के लिए एक राज्य स्तरीय क्रेता-विक्रेता मीट का जयपुर में आयोजन किया गया था। अगस्त माह में भी प्रशिक्षण प्रदान कर राखी के त्योहार पर राखी और अन्य उपहारों की स्टॉल लगवाई गई थी एवं महिला समानता दिवस पर भी जवाहर कला केन्द्र में पांच दिवसीय मेले का आयोजन किया गया था। समूह की महिलाएं अपने कौशल के अनुरूप आजीविका संबंधी गतिविधियों को अपनाकर ना केवल अपनी आजीविका को बढ़ा रही है, बल्कि अपने उत्पाद तैयार कर और उन्हें विक्रय का मंच पाकर आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack