सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती 31 अक्टूबर को, शिक्षा नगरी में निकाली जाएगी शोभायात्रा।

कोटा-हंसपाल यादव।
सहस्रबाहु अर्जुन जयंती 31 अक्टूबर को मनाई जाएगी। कोटा में राम जानकी मंदिर से जयंती के अवसर पर शोभायात्रा निकाली जाएगी। कलाल समाज के अध्यक्ष राहुल पारेता ने बताया कि सहस्रबाहु अर्जुन जयंती को लेकर पूरी तैयारियां की गई है। समाज के लोगों की तरफ से राम जानकी मंदिर से शोभायात्रा निकाली जाएगी जो कि स्वामी विवेकानंद नगर में बन रहे कलाल समाज के बालिका छात्रावास परिसर में समाप्त होगी। अध्यक्ष राहुल पारेता ने बताया कि शोभायात्रा में करीब पांच हजार से ज्यादा लोग शामिल होंगे। इनमें समाज की महिलाएं कलश लेकर शोभायात्रा में शामिल होंगी। समाज के बुजुर्ग बग्गी पर और युवा घोड़े पर सवार होंगे। शोभायात्रा के बाद छात्रावास परिसर में कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम में करीब 8 हजार से ज्यादा लोग शामिल होंगे। जहां समाज के छात्रावास व अन्य सामाजिक कार्यों में सहयोग करने वाले भामाशाहों का सम्मान किया जाएगा। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है उनका भी स्वागत सत्कार किया जाएगा। राहुल पारेता ने बताया कि कलाल समाज में काफी सामाजिक कार्य किए जा रहे हैं। विधवा महिलाओं को पेंशन दी जा रही है। युवाओं के रोजगार के लिए काम किया जा रहा है।

आप भी जानिए कौन थे सहस्रबाहु अर्जुन।

सहस्रबाहु का मूल नाम कार्तवीर्य अर्जुन था। उन्होंने अपने गुरु दत्तात्रेय को प्रसन्न किया था और वरदान के रूप में उनसे एक हजार भुजाएं प्राप्त की थीं। हजार भुजाओं के कारण कार्तवीर्य को अर्जुन सहस्त्रबाहु के नाम से भी जाना जाता है। सहस्रबाहु ने भगवान की कठोर तपस्या करके 10 वरदान प्राप्त किए और चक्रवर्ती सम्राट की उपाधि प्राप्त की। चंद्रवंशी क्षत्रियों में सर्वश्रेष्ठ उच्च कुल के वंशी क्षत्रिय हैं। महाराज कार्तवीर्य अर्जुन का जन्म कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी को श्रवण नक्षत्र में हुआ था। इस दौरान उपाध्यक्ष पिंटू सुवालका, महामंत्री हरीश पारेता, उपमंत्री आनंद मेवाड़ा, कार्यकारिणी सदस्य शांति सुवालका, रेखा पारेता, नेता प्रतिपक्ष अनिल सुवालका, नरेन्द्र भास्कर, महावीर कलवार, विनोद पारेता, पूर्व अध्यक्ष सत्तू मेवाड़ा, विकास मेवाड़ा, कपिल पारेता, शंभू पारेता, राजकुमार पारेता, ओम पारेता, मनोज वर्मा, मनोज मेवाड़ा, मुकुट मेवाड़ा, जितेन्द्र और समाज के कई वरिष्ठजन मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack