राजस्थान में विश्व की सबसे ऊंची 369 फीट की शिव प्रतिमा स्थापित।

उदयपुर ब्यूरो रिपोर्ट। 
विश्व की सबसे ऊंची 369 फीट की शिव प्रतिमा का पहले उपराष्ट्रपति  जगदीप धनखड़ द्वारा अवलोकन किया था। तत पदम् उपवन संस्थान नाथद्वारा के ट्रस्टी मदन पालीवाल मुरारी बापू द्वारा कराई जाए रही रामकथा के लिए तैयार पांडाल में विश्वास स्वरूपम की छोटी शिव तैयार की गई। प्रतिमा का लोकार्पण रामकथा मुरारी बापू द्वारा किया जाएगा। 9 दिन चलने वाले आयोजन को लेकर भव्य तैयारियां की गई हैं। शनिवार को इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए बाबा रामदेव भी आएंगे।
इसके साथ लोकार्पण कार्यक्रम में सीएम अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, प्रतिपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया, स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल,सहकारिता मंत्री उदय आंजना,भाजपा विधायक दल के उप नेता राजेंद्र राठौड़,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ कार्यक्रम में शामिल होंगे। 9 दिन तक चलने वाले इस आयोजन में रोज 80 हजार से 1 लाख लोगों के लिए खाने की व्यवस्था होगी। दोनों समय का प्रसाद भोजनशाला में ही होगा। ऐसे में इतनी संख्या में लोगों को खाना परोसने के लिए कन्वेयर बेल्ट मशीन तैयार की गई है। इस मशीन से खाना रसोई से भोजनशाला तक पहुंचाया जाएगा। रामकथा के दौरान बनने वाले प्रभु प्रसाद की खास बात यह भी रहेगी कि यह पूरा खाना चूल्हे पर बनेगा। इसके लिए भोजनशाला के पास ही रसोड़े बनाए गए हैं। जहां मिट्‌टी के चूल्हे तैयार किए गए हैं। सारा खाना इन्हीं पर बनेगा। गैस का उपयोग केवल चाय, नमकीन या छोटी चीजों के लिए ही किया जाएगा।व्यवस्थाओं को नटवर भाई शाह और प्रभु प्रसाद का स्टोर और पूरा मैनेजमेंंट संभाल रहे हैं। पांडाल को भी जर्मन टेक्नोलॉजी से तैयार किया गया है। यहां करीब 1.50 लाख फीट एरिया में पांडाल तैयार किया गया है। इसके बाद इसे वॉटर प्रूफ कपड़े से कवर किया गया है। यहां करीब 70 हजार के लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। बैठने के लिए अलग-अलग ब्लॉक बनाए गए हैं। आयोजन में भाग लेने के लिए अब तक 15 हजार से ज्यादा लोग रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। इस आयोजन में भाग लेने के लिए यूके, यूएस, आस्ट्रेलिया, फ्रांस, जर्मनी, नेपाल और भूटान से भी लोग आएंगे।कथा स्थल के आस-पास मानो पूरा गांव बसाया गया है। अलग-अलग तीन जगह पर 800 लग्जरी टैंट हाउस बनाए गए है। इनमें करीब साढ़े तीन हजार लोगोंं के रुकने की व्यवस्था की गई है। कार्यक्रम के लिए 500 पुलिस जवान और सिक्योरिटी गार्ड तैनात किए गए हैं। इसके अलावा 1 हजार से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। आस-पास के गांवों से लोगों को कथा स्थल से लाने के लिए 100 बसें लगाईं हैं। इसके अलावा दूसरे जिले से आने वाले लोगों के लिए निशुल्क ठहरने की व्यवस्था की गई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack