राजस्थान में अचानक से पलटा मौसम का मिजाज, सबसे ज्यादा करौली में 93MM बारिश की दर्ज।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान से मानसून विदा हो गया। लेकिन बादल अब भी बरस रहे हैं। बंगाल की खाड़ी में बना नया सिस्टम उत्तर भारत की तरफ बढ़ा है। इससे प्रदेश में भी मौसम का मिजाज बदल गया है। राज्य के कई जिलों में आज देर शाम तक बारिश का दौर जारी है।जयपुर सहित कई शहरों में शुक्रवार सुबह से ही बादल छाए हुए हैं। ठंडी हवाएं चल रही हैं। इस बीच मौसम विभाग ने अगले 3 दिन तेज बारिश का अलर्ट जारी किया है। आज और कल कोटा, उदयपुर, भरतपुर, अजमेर और जयपुर संभाग के 25 जिलों में सामान्य और कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। उधर पिछले 24 घंटे की रिपोर्ट देखें तो बारां, कोटा, बांसवाड़ा, करौली, अलवर में कई जगहों पर बारिश हुई। करौली शहर मे सबसे ज्यादा बारिश हुई है। सिंचाई विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक करौली शहर मे 93MM बारिश दर्ज की गई है। इसी प्रकार पांचना बांध पर पांच बजे तक 28MM, करौली जिले के सपोटरा कस्बे मे 22MM, कालीसिल डेम पर 28MM श्रीमहावीरजी मे 10MM बारिश दर्ज की गई है। इसी प्रकार बांसवाड़ा के दानपुर में 40MM पानी बरसा। इसके अलावा सज्जनगढ़ में 11, केसरपुर-सलोपट में 8-8, कुशलगढ़ 9MM बरसात हुई है। कोटा के कानावास, रामगंजमंडी, सांगोद, चेचट में भी 10MM तक बारिश हुई।बारां जिले के छीपा बड़ौद में 22, छबड़ा में 11, शाहबाद में 16 और अटरू में 10MM पानी गिरा। टोंक के निवाई और अलवर के नीमराणा, किशनगढ़बांस एरिया में भी हल्की बारिश दर्ज की गई। वहीं, जयपुर, अजमेर, दौसा, अलवर, भरतपुर, कोटा, बूंदी, समेत कई हिस्सों में भी ठंडी हवाएं चल रही हैं। इससे मौसम में हल्की ठंडक बढ़ी है। राजस्थान में पारा गिरने से रातें पहले से सर्द होने लगी हैं।
अगले 3 दिन तक बारिश के आसार।
जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि उत्तर भारत में एक फ्रेश डिस्टर्बेंस एक्टिव है। इसके अलावा बंगाल की खाड़ी में बना एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन सिस्टम आंध्रा प्रदेश के कोस्टल एरिया में एक्टिव है। इन दोनों सिस्टम के कारण मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश में मौसम में बदलाव और बारिश शुरू हो गई है। इसी सिस्टम का असर राजस्थान के पूर्वी हिस्से में भी देखने को मिला है। इसके अगले 3 दिन तक बने रहने की संभावना है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack