के.सी मालू "राजस्थान रत्न" से सम्मानित।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान के वीणा संगीत समूह जयपुर के चेयरमेन और प्रबंध निदेशक के सी मालू को शुक्रवार को राजस्थान सरकार के सर्वोच्च नागरिक सम्मान राजस्थान रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को जयपुर के जे सी सी सीतापुरा में आयोजित दो दिवसीय इन्वेस्ट राजस्थान समारोह के मुख्य समारोह में मालू को यह सम्मान प्रदान किया । उन्हें सम्मान स्वरूप  एक लाख रु का चेक,सम्मान पत्र और शाल ओढ़ाई गई।
इस मौके पर विधान सभा अध्यक्ष डॉ सी पी जोशी राज्य के शिक्षा व  कला संस्कृति मंत्री डॉ बी डी कल्ला, उद्योग मंत्री शकुंतला रावत  मुख्य सचिव उषा शर्मा , रीको के अध्यक्ष कुलदीप रांका अति मुख्य सचिव वीनू गुप्ता सहित कई गणमान्य व्यक्ति और वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।के सी मालू ने राजस्थानी संगीत के जादू को देश दुनिया में करोड़ों लोगों के दिलों दिमाग़ तक पहुँचाने का बेजोड़ काम किया है। मालू वीणा समूह जयपुर के संस्थापक अध्यक्ष है। उन्होंने राजस्थानी संगीत को प्रारम्भ में वीणा केसेटस और बाद में डिजिटल माध्यम से जन -जन तक लोकप्रिय बनाने में अभूतपूर्व योगदान प्रदान किया। उन्होंने राजस्थानी संगीत को नए मुकाम और सफलता के  शिखर  तक पहुँचाया। मालू ने वर्तमान में डिजिटल माध्यमों पर 'वीणा म्यूजिक' को यूट्यूब ,फेसबुक, इंस्टाग्राम सहित लगभग 200 से ज्यादा प्लेटफार्म पर भी उपलब्ध करवाया हैं। जिससें  देश के साथ - साथ विदेशों में रहने वाले राजस्थानी व अन्य संगीत प्रेमी भी तीज - त्यौहार , मेलों, उत्सवों, शादी - विवाह समारोह में इनको सुनकर या नृत्य कर आनन्द उठा रहे हैं। मालू के सद् प्रयासों से विदेशी धरती पर भी अब तीज - गणगौर - होली के पर्व उत्साह से मनाए जा रहे हैं। घूमर के एल्बम की जबरदस्त सफलता ने फिल्म निर्माताओं को भी राजस्थानी संगीत की और आकृष्ट किया है। आज मालू व वीणा म्यूजिक के मधुर संगीत के कारण ही सारे चैनलों पर भी राजस्थानी पृष्टभूमि पर आधारित धारावाहिक बन रहे हैं और लोकप्रियता के नए सोपान रच रहे हैं। राजस्थानी संगीत ने सवच्छ - स्वस्थ पारिवारिक संगीत को आगे बढ़ाने में भी अभूतपूर्व योगदान दिया है। साथ ही मालू राजस्थानी भाषा की संवैधानिक मान्यता के लिए भी लगातार प्रयासरत हैं। कला और संगीत मर्मज्ञ के सी मालू को राजस्थानी संस्कृति, लोक संगीत, लोकगीतों, लोक नृत्यों और लोक-संस्कृति के प्रसार-प्रचार और संवर्धन के लिए दिए गए उनके अमूल्य योगदान के लिए यह सम्मान प्रदान किया गया। समारोह में मालू के अलावा राजस्थान की लब्ध प्रतिष्ठित प्रतिभाओं अंतर्राष्ट्रीय  न्यायालय हेग नीदरलैंड के न्यायाधीश जस्टिस दलबीर भंडारी, उच्चतम में मुख्य न्यायाधीश रहें जस्टिस  आर.एम.लोढ़ा, सुविख्यात उद्योगपति उद्योगपति  एल.एन मित्तल, और अनिल अग्रवाल एवं शायर शीन काफ निजाम को भी राजस्थान रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया। उल्लेखनीय है कि राजस्थान सरकार के सर्वोच्च नागरिक सम्मान के लिए विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय सेवाएँ देने वाली हस्तियों को पुरस्कार देने की परम्परा वर्ष 2012 से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कार्यकाल में ही प्रारंभ हुई थी ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack