डीएम ने बालिकाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं में तैयारी करने के दिए टिप्स।

जैसलमेर-मनीष व्यास।
जिला कलक्टर टीना डाबी की प्रेरणा से अन्तर्राष्ट्रीय बालिका दिवस सप्ताह कार्यक्रमों की कड़ी में नवाचार के रूप में बालिकाओं के साथ ‘‘करियर काउन्सलिंग एवं मार्गदर्शन‘‘ का कार्यक्रम जिला कलक्ट्री परिसर स्थित डीआरडीए सभागार में जिला कलक्टर की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ।जिला कलक्टर डाबी ने बालिकाओं को संघ लोक सेवा आयोग, राजस्थान लोक सेवा आयोग की प्रतियोगी परीक्षाओं के साथ ही प्रशासनिक सेवाओं की परीक्षाओं एवं अन्य परीक्षाओ की तैयारी करने के सम्बन्ध में मार्गदर्शन किया एवं परीक्षा में सफल होने के लिए अपने अनुभवों के टिप्स सुनाए। उन्होंने बालिकाओं को कहा कि वे प्रतियोगी परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत करे एवं नियमित रूप से अधिक घण्टों तक पढ़ाई कर उसमे सफलता हासिल करें। उन्होंने यह भी सीख दी कि बालिकाएं प्रतियोगी परीक्षा के लिए अपने रूचि का विषय चयन करने के साथ ही करंट अफेयर्स के लिए नियमित रूप से समाचार पत्रो एवं सामान्य ज्ञान की पत्र-पत्रिकाओं का विशेष अध्ययन करें।
बालिकाओं को परीक्षा में सफल होने के दिए टिप्स
जिला कलक्टर ने बालिकाओं का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि वे अपनी योग्यता को कभी भी कम नहीं आंके एवं पूरे आत्म विश्वास के साथ लक्ष्य का निर्धारण कर अपने क्षेत्र को चुने ताकि वे उस क्षेत्र में सफल होकर अपने अच्छे करियर को प्राप्त कर सके। उन्होंने आत्मीय भाव के साथ बालिकाओं को परीक्षा में तैयारी करने की विधि, इच्छुक विषय का चयन, इन्टरनेट से ऑनलाईन पढ़ाई करने की विधि के साथ ही अन्य विषयों के बारें में विस्तार से जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि बालिकाएं अपने मन में यह कभी नहीं सोचे की वे पढ़ाई करने में बालकों से कम नहीं है बल्कि उन्हें अपने जीवन में यह अंगीकार करना है कि हमें हर हाल में रोजगार हासिल कर अपने पैरों पर खड़ा होना है।
महाविद्यालय स्तर से ही रूचि का करियर चयन करें।
उन्होंने कहा कि बालिकाएं भारतीय प्रशासनिक, राजस्थान प्रशासनिक सेेवा के साथ ही डॉक्टर, इन्जिनियर, कम्प्युटर इन्जिनियर, अन्य सेवाओं का चयन अपनी रूचि के अनुसार महाविद्यालय स्तर तक की कक्षाओं में अध्ययनरत रहते हुए करें ताकि वे उसमें सफलता हासिल करने में कामियाब हो सके। 
कंप्यूटर शिक्षा में भी हो पारंगत।
उन्होंने आज के युग को देखते हुए कम्प्युटर की शिक्षा में भी पारंगत होने पर बल दिया एवं साथ ही कहा कि वे गुगल, यूट्युब इत्यादि का ज्ञान हासिल करने के लिए अवश्य ही उपयोग करें। उन्होंने विद्यार्थी जीवन में पढ़ाई करते समय मोबाईल का उपयोग नहीं करने की सीख भी दी। 
बालिकाओं ने उत्साह के साथ की प्रश्नोत्तरी, जिज्ञासा की शांत।
कार्यक्रम के दौरान जिला कलक्टर से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाली बालिकाओं के साथ ही विद्यालय एवं महाविद्यालय में अध्ययनरत् बालिकाओं ने खुले मन से परीक्षा में सफलता हासिल करने के सम्बन्ध में प्रश्नोत्तरी की एवं अपनी जिज्ञासाओं को शांत किया। जिला कलक्टर ने बालिकाओ द्वारा पूछे गए प्रश्नो का आत्मीय भाव से उत्तर दिया एवं यही सीख दी कि वे पढ़ाई के क्षेत्र में कड़ी मेहनत कर सफलता को अवश्य ही प्राप्त करें ताकि वे अपने परिवार के साथ ही समाज एवं प्रदेश व देश के विकास व सेवा के रूप में अपनी अहम भूमिका अदा कर सके। 
इन्होंने भी किया मार्गदर्शन।
आयुक्त नगर परिषद शशिकांत शर्मा, सचिव झब्बर सिंह, नायब तहसीलदार ललित चारण, उपनिदेशक महिला अधिकारिता अशोक कुमार गोयल के साथ ही विषय विशेषज्ञों ने बालिकाओं को परीक्षाओं की तैयारी एवं अपने करियर के चयन करने के सम्बन्ध में मार्गदर्शन प्रदान किया। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता विजय बल्लाणी ने किया। कार्यक्रम में अच्छी संख्या में बालिकाएं उपस्थित हुई एवं वे अपने आप को जिला कलक्टर के बीच पाकर गौरवान्वित महसूस किया। बालिकाओं ने अपने करियर के सम्बन्ध मे एवं परीक्षा में उत्तीर्ण होने के सम्बन्ध में प्रश्नोत्तरी कर अपनी जिज्ञासा की पूर्ति की।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack