एनडीआरएफ ने रणगंवा ताल पर किया मॉकड्रिल।

करौली ब्यूरो रिपोर्ट।
राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) द्वारा बुधवार को रणगंवा ताल पर बाढ से आमजन को बचाने एवं सुरक्षित निकालने का मॉकड्रिल किया गया। इस दौरान जिला कलेक्टर अंकित कुमार सिंह ने कहा कि पिछले दिनों अगस्त माह में वर्षा के दौरान एनडीआरएफ एवं सिविल डिफेंस  के द्वारा मंडरायल, सपोटरा, करणपुर क्षेत्र में सराहनीय कार्य किया गया, इस तरह की मॉकड्रिल का उद्देश्य रहता है कि जवान नियमित प्रैक्टिस करते रहे और अपने उपकरणों को कार्य में लेते रहे जिससे आने वाली आपदा में इनका सही एवं समय पर उपयोग किया जा सके। 
उन्होंने बताया कि एनडीआरएफ  किस प्रकार अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए बचाव कार्य करती है यह पिछले दिनों वर्षा के मौसम में प्रदेश में कई जिलों में आई आपदा के दौरान टीम द्वारा महत्वपूर्ण कार्य किया गया था। जिले में मॉकड्रिल एनडीआरएफ 6वीं वाहिनी कमांडेंट वीवी एन प्रसन्ना कुमार के निर्देशों की पालना में  एनडीआरएफ के राजस्थान प्रभारी योगेश कुमार मीना के पर्यवेक्षण एवं इंस्पेक्टर सुरेश कुमार गुर्जर  के नेतृत्व में रेस्क्यू टीम के साथ बाढ आने पर या बाढ जैसे हालात होने पर किये जाने वाले बचाव कार्याें का मॉक अभ्यास कर सफल प्रदर्शन किया गया। 
प्रदर्शन के दौरान टीम द्वारा अपने साथ लाये गये बाढ बचाव संबंधित उपकरण जैसे वोट, डीप ड्राईविंग उपकरण, टयूब, लाइफ जैकेट आदि संसाधन सहित पानी में डूब रहे लोगों को बचाने का प्रदर्शन किया गया जिसका मौके पर उपस्थित सभी अधिकारियों द्वारा एनडीआरएफ की टीम द्वारा कियो गये प्रदर्शन की सराहना करते हुए तालियां से स्वागत किया। इस दौरान पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम के द्वारा आपदा के दौरान प्रदेश भर में सराहनीय कार्य किये जाते हैं। इस अवसर पर उपखंड अधिकारी हिण्डौन अनूप सिंह,टोडाभीम के दुर्गाप्रसाद मीणा, सपोटरा के अनूप भारद्वाज, अधीक्षण अभियंता सानिवि राजवीर सिंह, अधिषासी अभियंता सिंचाई सुशील गुप्ता, विकास अधिकारी अनीता मीना, पीआरओ धर्मेन्द्र कुमार मीणा, सिविल डिफेंस के क्षत्रपाल सिंह, फायर ब्रिगेड के अधिकारी, सिविल डिफेंस होमगार्ड एवं एनडीआरएफ की 25 सदस्यीय टीम के सदस्य मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack