दीपावली पर पटाखे से झुलसा पोता, सदमे मे दादा ने तोड़ा दम।

भरतपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
भरतपुर जिले के सीकरी कस्बे में दीपावली के मौके पर दादा के सामने उसका पोता पटाखे से झुलस गया। दादा बचाने भी दौड़े। तब तक वह जल चुका था। पोते की ये हालत दादा देख नहीं सके और सदमे में उनकी मौत हो गई। पोता 35 प्रतिशत तक झुलस चुका है। उसे जयपुर रेफर किया गया है। दरअसल लिंकन खत्री का सीकरी पिपला माता मंदिर के पास सर्वोदय विद्या पीठ स्कूल है। स्कूल के सेकेंड फ्लोर पर ही मकान बना रखा है। सोमवार रात 11 बजे लिंकन खत्री अपनी पत्नी नीलम खत्री और बड़े बेटे ओम खत्री के साथ दूसरे कमरे में पूजा कर रहे थे। लिंकन के 90 साल के पिता मदन लाल और 16 साल का बेटा ध्रुव उर्फ शिवा आगे वाले कमरे में थे। दादा कमरे में ही सो रहे थे। ध्रुव के हाथ में अचानक से पटाखा जल गया। आवाज सुन दादा जागे तो ध्रुव पटाखे की आग में झुलस रहा था। दादा उठे और पोते को बचाने का प्रयास किया। इतने में ध्रुव की आवाज सुन घरवाले भी आगे वाले कमरे में पहुंच गए। जैसे-तैसे आग पर काबू पाया। दादा ने अपने पोते की हालत देखी। वह इसे सह नहीं पाए। वे सदमे में आ गए और वहां अचेत होकर गिर गए। उन्हें सीकरी के हॉस्पिटल में ले जाया गया। यहां उनकी मौत हो गई। लिंकन खत्री ने बताया कि पोते को झुलसी हालत में देखने से मेरे पिता को हार्ट अटैक आ गया था। बच्चे के पिता लिंकन खत्री ने बताया कि अचानक पता नहीं क्या हुआ पटाखा फटा है या कोई रॉकेट आया है। इस हादसे में बेटे का हाथ और चेहरा बुरी तरह से झुलस गया। उसे सीकरी हॉस्पिटल ले जाया गया, यहां से उसे अलवर रेफर किया गया। इस हादसे में वह 35 प्रतिशत तक झुलस गया। हालत ज्यादा खराब होने पर उसे जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में रेफर किया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack