राजराजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती पर निकली भव्य शोभायात्रा।

कोटा-हंसपाल यादव।
राजराजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती पर क्षत्रिय कलाल संस्थान (सभा) कोटा द्वारा भव्य व विशाल 
शोभायात्रा श्री राम जानकी मंदिर से विनोबा भावे नगर तक निकाली गई। कलश यात्रा में समाज की हजारों की संख्या में महिलाओं ने पारम्परिक परिवेश धारण कर सिर पर मंगल कलश लिए शोभायात्रा की शोभा बढाई। महिलाएं मंगल गीत गाती चल रही थी वहीं बैड बाजे की मधुर सुर लहरियों के बीच युवाओं का उत्साह भी चरम पर था। कलाल समाज के अध्यक्ष राहुल पारेता ने बताया कि इस अवसर पर जगह-जगह स्वागत द्वार लगाकर व पुष्प वर्षा कर शोभायात्रा का स्वागत किया गया। अन्य समाजों की ओर से भी शोभायात्रा को जगह-जगह अभिनंदन किया गया। शोभायात्रा में रथ के साथ ही घोड़े पर समाज के बच्चे व अन्य लोग सवार रहे जो धर्म ध्वज पताकाएं लेकर अलग ही आभा बिखेर रहे थे। शोभायात्रा विनोबा भावे नगर स्थित छात्रावास में सम्पन्न हुई जहां कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। वहीं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल, विधायक संदीप शर्मा, चन्द्रकांता मेघवाल, कल्पना देवी, पूर्व एमएलए प्रहलाद गुंजल, पूर्व एमएलए बडी सादडी प्रकाश चौधरी, समाजसेवी अमित धारीवाल, प्रदेश कांग्रेस सचिव राखी गौतम, कांग्रेस शहर जिलाध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, शिवकांत नंदवाना, भारतीय युवा कांग्रेस कोर्डिनेटर राजा चौधरी, पूर्व जिला कलक्टर राकेश जायसवाल, पारेता बिल्डकॉम के डायरेटर ब्रजमोहन पारेता ने समाज के सभी लागों को राजराजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती की शुभकामनाएं प्रेषित की है। 
छात्रावास में सहयोग करने वाले भामाशाहों का हुआ सम्मान।
बालिका छात्रावास अधीक्षक विनोद पारेता ने बताया कि राजराजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन जयंती के अवसर पर समाज के युवाओं ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। इस दौरान लोक संस्कृति की झलक भी दिखाई दी गई जिसमें लोक कलाकारों ने अपनी सुमधुर धुनों पर भरपूर नृत्य किया। इस अवसर पर निमार्णाधीन बालिका छात्रावास के लिए सहयोग करने वाले भामाशाहों का भी सम्मान किया गया। पारेता ने कहा कि इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए गए, जिसमें समाज के लोगों ने भी भरपूर सहयोग किया। अध्यक्ष पारेता ने इस दौरान सम्बोधित करते हुए कहा कि समाज के सभी घटकों को साथ लेकर समाज के उत्थान का कार्य किया जा रहा है। छात्रावास निर्माण हो या वृद्धावस्था पेंशन की बात हो सभी को लाभांवित किया जा रहा है। इसके साथ ही शिक्षा, चिकित्सा, पर्यावरण संरक्षण और कोटा शहर के विकास में भी कलाल समाज अपनी महत्ती भूमिका निभा रहा है।  
समाज के गणमान्य रहे उपस्थित।
इस अवसर पर संरक्षक अनिल सुवालका, विनोद पारेता, महावीर कलवार, सत्यनारायण मेवाड़ा, दिनेश पारेता हांड़ा,घनश्याम वर्मा, शिवनारायण वर्मा, नरेंद्र भास्कर, विकास मेवाडा, सत्य प्रकाश सुवालका, हेमराज कलवार, जगन्नाथ पारेता, अशोक मेवाड़ा, घनश्याम मेवाड़ा उपस्थित रहे। इसके साथ ही कलाल समाज के महामंत्री हरीश पारेता, कोषाध्यक्ष नरेश तलाईचा, मंत्री आनंद मेवाड़ा, ओमप्रकाश पारेता वरिष्ठ उपाध्यक्ष, संजय पारेता उपाध्यक्ष, प्रकाश जायसवाल, गौरव सुवालका, प्रचार प्रसार मंत्री मनोज वर्मा, सांस्कृतिक मंत्री लोकेश पारेता, नीरज वर्मा आॅडिटर, घनश्याम कलाल कोआॅडिटर, पिंटू सुवालका, किशन पारेता, मनोज वर्मा, शेखर जायसवाल,रणजीत सुवालका,बॉबी मेवाडा, मुकुट मेवाडा,ज्ञान सुवालका, चद्र मोहन सुवालका, रघु सुवालका, बबलू पारेता, विपिन पारेता, मुकेश पारेता, रामेश्वर पारेता, नितिन मेवाडा, कुलदीप ग्वालेरा, मनीष पारेता, गौरव पारेता, परवेश पारेता, अजय वर्मा, नितेश टांक, गुड्डू कलवार, सहित कई लोग उपस्थित रहे। वही शांति देवी सुवालका, रिखब चंद मेवाड़ा, ओम जयसवाल, जगदीश मेवाड़ा, विशाल वर्मा, किशन गोपाल पारेता, पंकज जायसवाल, बद्रीलाल पारेता, राकेश मेवाड़ा, पवन माहूर, पवन कलाल, बंटी कलाल, अनिल पारेता, चेतराम मेवाड़ा, ओमप्रकाश पारेता, युवराज सुवालका, कमलेश पारेता, सत्यनारायण कलवार, राजकुमार कलवार, रघु सुवालका, कमलेश पारेता, राजेंद्र पारेता, मनीष पारेता, फूलचंद पारेता, वीरेंद्र सुवालका, रेखा पारेता, मनीष पारेता, सूरजमल पारेता, उत्तम पारेता, विपिन सुवालका, रोहित पारेता, कस्तूरचंद पारेता, पुष्प लता मालवीय सहित कई लोग उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack