गहलोत के करीबी मंत्री राजेंद्र सिंह यादव की चेतावनी, 1 जनवरी तक कोटपुतली नहीं बना जिला तो मंत्री और विधायक पद से दूंगा इस्तीफा।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्थान कांग्रेस में इस समय सबकुछ ठीक नहीं है। अब मंत्री राजेंद्र यादव ने मंत्री और विधायक पद छोड़ने की चेतावनी दी है। दरअसल मंत्री राजेंद्र यादव की मांग है कि कोटपूतली को जिला बनाया जाए। ऐसा नहीं होने पर वह मंत्री पद से इस्तीफा दे देंगे। मंत्री यादव ने कहा कि 1 जनवरी तक कोटपूतली को जिला बनाओ। अन्यथा वह मंत्री और विधायक दोनों पर छोड़ देंगे। कोटपूतली को लंबे समय से जिला बनाने की मांग तेजी से उठ रही है। सीएम गहलोत ने कोटपूतली दौरे के दौरान संकेत दिए थे कि जल्द ही सरकार जिला बनाने पर निर्णय लेगी।
गहलोत कैंप के माने जाते हैं यादव।
बता दें,गृह राज्यमंत्री राजेंद्र यादव गहलोत कैंप के मंत्री माने जाते हैं। आमतौर पर शांत स्वभाव के माने जाने वाले राजेंद्र यादव का अचानक मुखर होना गहलोत सरकार के लिए नई परेशानी खड़ा कर सकता है। मंत्री राजेंद्र यादव जयपुर जिले से सटे कोटपूतली से कांग्रेस विधायक बनकर मंत्री बने है। राजस्थान में लंबे समय से नए जिले बनाने की मांग हो रही है। जिनमें एक मांग कोटपूतली को भी नया जिला बनाने की है। इस क्षेत्र के लोग लम्बे समय से जिले की मांग कर रहे हैं। नए जिलों के गठन को लेकर अब तक गठित आयोग व समितियों ने भी जयपुर-दिल्ली मार्ग पर कोटपूतली को नया जिला बनाने की अभिशंषा की है।
नए जिलों के लिए कमेटी गठित की है।
राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि आने वाले बजट में गहलोत सरकार नए जिलों की घोषणा करेगी। ऐसा इसलिए माना जा रहा है कि क्योंकि सरकार ने नए जिले गठन करने के लिए रिटायर्ड आईएएस रामलुभाया की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया था। अभी इस कमेटी का कार्यकाल भी बढ़ा दिया है। प्रदेश के 24 जिलों से 60 शहर जिले की कतार में हैं। यह कमेटी इन शहरों का सर्वे कर रिपोर्ट तैयार करने में जुटी है।राजस्थान में प्रतापगढ़ जिला बनने के बाद कोई नया जिला नहीं बना है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack