मुकंदरा अभ्यारण्य मे गूंजी टाईगर की दहाड़, रणथंबोर अभ्यारण से टाईगर टी-110 को किया शिफ्ट।

सवाई माधोपुर-हेमेन्द्र शर्मा।
सवाई माधोपुर स्थित रणथंभौर में वन विभाग की टीम ने आखिर कार 15 दिनों की कड़ी मशक्कत के बाद टाईगर टी-110 को फलौदी रेंज के देवपुरा नाका के पास ट्रेंकुलाइज कर लिया । टाईगर को ट्रेंकुलाइज करने के बाद मौके पर मौजूद रणथंभौर के पशु चिकित्सकों की टीम ने टाईगर का स्वास्थ्य परीक्षण किया और टाईगर के गले में रेडियो कॉलर लगाकर उसे मुकंदरा के लिए रवाना कर दिया। मुकुंदरा व रणथंभौर के आला अधिकारी सड़क मार्ग से टाईगर को लेकर मुकंदरा के लिए रवाना हो गए। 
गौरतलब है कि एनटीसीए से अनुमति मिलने के बाद वन विभाग ने रणथम्भौर से अन्यत्र शिफ्ट करने के लिए चार टाईगर चिंहित किये थे।इसमें से एक टाईगर टी-113 को विगत 16 अक्टूबर को रणथंभौर से सरिस्का में शिफ्ट किया जा चुका है। अब वन विभाग ने बाघ टी-110 को भी ट्रेंकुलाइज कर उसे मुकुंदरा शिफ्टिंग के लिए भेज दिया । इसके लिए वन विभाग की टीम लगभग 15 दिन से लगातार टाईगर टी-110 की तलाश में लगी थी। आखिरकार आज सुबह फलोदी रेंज में टाईगर को वन विभाग की टीम ने ट्रेंकुलाइज करने में सफलता हासिल की। रणथंभौर के फील्ड डायरेक्टर सेडूराम यादव, मुकुंदरा के फील्ड डायरेक्टर एसपी सिंह सहित अन्य अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। मुकुंदरा टाइगर रिजर्व को लगभग दो साल से एक नर बाघ का इंतजार था। मुकुंदरा टाइगर रिजर्व का बाघ को लेकर इंतजार अब समाप्त हो गया है। रणथंभौर का बाघ टी-110 अब मुकुंदरा में एमटी-5 बनकर बाघिन एमटी-4 के साथ जोड़ा बनाएगा।एनटीसीए, भारत सरकार और राज्य सरकार की अनुमती के बाद निर्धारित प्रोटोकॉल व एसओपी के अनुरूप रणथंभौर बाघ परियोजना सवाई माधोपुर के नर टाईगर टी-110 जिसकी उम्र लगभग 6 वर्ष है। गाजीपुर आमली के पेरिफेरल क्षेत्र रेंज फलौदी से टाईगर को मुकुंदरा टाइगर रिजर्व में शिफ्ट करने के लिए एनटीसीए के प्रतिनिधि अभिषेक भटनागर , सीडब्ल्यूएलडब्ल्यू के प्रतिनिधि संजीव शर्मा, दौलत सिंह सदस्य एसबीडब्ल्यूएल, सीसीएफ रणथंभौर सेडू राम यादव, सीसीएफ मुकुंदरा एसपी सिंह, वन संरक्षक संरक्षक प्रथम रणथंभौर संग्राम सिंह कटियार, व एसीएफ मानस सिंह, चार वेटनरी डाक्टर की टीम व स्टाफ की उपस्थिति में टी -110 को निर्धारित स्वास्थ्य परीक्षण उपरांत मुकुंदरा टाइगर रिजर्व के लिए रवाना किया गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack