जलदाय मंत्री की अध्यक्षता में हुई पीपीसी की 209वीं बैठक, ₹4714 करोड़ की वृहद पेयजल परियोजनाओं के प्रस्ताव अनुमोदित।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. महेश जोशी की अध्यक्षता में सचिवालय में हुई राजस्थान वाटर सप्लाई एवं सीवरेज मैनेजमेंट बोर्ड (आरडब्ल्यूएसएसएमबी) की नीति निर्धारण समिति (पीपीसी) की 209वीं बैठक में करीब 10 हजार करोड़ रूपए की विभिन्न बड़ी एवं छोटी पेयजल परियोजनाओं के प्रस्तावों का अनुमोदन किया गया। बैठक में 4714.23 करोड़ रूपए की  वृहद पेयजल परियोजनाओं का अनुमोदन किया गया। ये परियोजनाएं 32वीं एसएलएसएससी में पहले ही मंजूर हो चुकी हैं। अनुमोदित वृहद परियोजनाओं में 3 हजार 106 करोड़ रूपए की चम्बल-धौलपुर-भरतपुर वृहद पेयजल परियोजना शामिल है। इसमें जल जीवन मिशन के तहत धौलपुर जिले के 132 गांव तथा भरतपुर जिले के 953 गांव यानी कुल 1085 गांवों तथा भरतपुर जिले के 8 शहरों (भरतपुर, रूपवास, उच्चौन, कुम्हेर, डीग, नगर, कामां एवं सीकरी) की 2054 तक की लक्षित 37 लाख 88 हजार से अधिक की आबादी लाभांवित होगी। परियोजना के तहत धौलपुर जिले के 96 गांवों में 20149 तथा भरतपुर जिले के 647 गांवों में 1,41,497 यानी दोनो जिलों के कुल 743 गांवों में 1 लाख 61 हजार 646 क्रियाशील घरेलू जल संबंध (एफएचटीसी) जारी किए जाएंगे। इसमें 37 एमसीएम क्षमता का रॉ वाटर जलाशय, रॉ  वाटर ट्रांसफर मैन पाइप लाइन, स्वच्छ जल ट्रांसफर मैन पाइप लाइन, राइजिंग मैन पाइप लाइन, क्लस्टर वितरण पाइप लाइन, स्वच्छ जलाशय, उच्च जलाशय, पंपिंग स्टेशन, स्काडा सिस्टम तथा जल संबंध जैसे कार्य किए जाएंगे।  
प्रतापगढ़ के लिए 1062 करोड़ की परियोजना, 6 लाख लोग लाभांवित होंगे।
पीपीसी में प्रतापगढ़ जिले के अरनोद एवं पीपलखूंट क्षेत्र के 524 गांवों को हर घर जल कनेक्शन देने के लिए 1062.77 करोड़ रूपए की क्षेत्रीय जल प्रदाय योजना का अनुमोदन किया गया। इस परियोजना के तहत पेयजल की मांग को देखते हुए जाखम बांध में 890 एमसीएफटी जल का आरक्षण जल संसाधन विभाग द्वारा किया गया है। परियोजना से प्रतापगढ़ विधानसभा क्षेत्र के 418 एवं बड़ी सादड़ी विधानसभा क्षेत्र के 106 गांवों की वर्ष 2053 की अभिकल्पित 6 लाख 17 हजार से अधिक आबादी लाभांवित होगी। इसमें 82 हजार 525 जल कनेक्शन दिए जाएंगे। परियोजना की निविदा इसी माह आमंत्रित की जाएगी। 
1311 करोड़ रूपए की बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर जलापूर्ति योजना।
जलदाय मंत्री की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में मुख्यमंत्री की बजट घोषणा के अनुरूप 1311 करोड़ रूपए की बीसलपुर-पृथ्वीराज नगर फेज-प्रथम, स्टेज-प्रथम, स्टेज-द्वितीय, फेज-द्वितीय का भी अनुमोदन किया गया। 
214 करोड़ रूपए की बीसलपुर से जगतपुरा-प्रतापनगर जलापूर्ति योजना।
बैठक में जयपुर शहर के जगतपुरा, प्रतापनगर एवं महल रोड क्षेत्र में बीसलपुर से जलापूर्ति फेज द्वितीय की 214.92 करोड़ रूपए की पेयजल योजना को मंजूरी दी गई। जयपुर शहर के खो-नागोरियान क्षेत्र में बीसलपुर से जलापूर्ति के लिए 151.73 करोड़ रूपए की जलापूर्ति योजना को भी मंजूरी दी गई। 
94 करोड़ रूपए की बारू-धोलिया-टेपू-टेकरा-राणेरी-सिंहड़ा पेयजल परियोजना।
मुख्यमंत्री की वर्ष 2021-22 की बजट घोषणा के अनुरूप 93.99 करोड़ रूपए की राजीव गांधी लिफ्ट परियोजना आधारित बारू-धोलिया-टेपू-टेकरा-राणेरी-सिंहड़ा पेयजल परियोजना का भी अनुमोदन किया गया। इस परियोजना के तहत जोधपुर जिले के बाप ब्लॉक के 25, फलौदी के 2 गांव तथा 63 ढाणियों में 6156 हर घर जल कनेक्शन दिए जाएंगे। बैठक में 521 करोड़ रूपए की 62 नई लघु पेयजल योजनाओं (ओटीएमपी) का भी अनुमोदन किया गया। इनसे 167 गांवों में 62 हजार 930 हर घर जल कनेक्शन किए जाएंगे। इसके अलावा विभिन्न शहरों की शहरी जलप्रदाय योजना के सुदृढ़ीकरण एवं संवर्द्धन से जुड़े प्रस्तावों तथा जल जीवन मिशन से जुड़े प्रस्तावों का भी अनुमोदन भी किया गया। बैठक में जलदाय मंत्री डॉ. महेश जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री की बजट घोषणाओं के कार्य प्राथमिकता से और तय समय पर पूरे करने के लिए सभी अभियंता पूरी तन्मयता से कार्य करें। उन्होंने 30 नवम्बर तक समस्त निविदाएं खोलने का लक्ष्य पूरा करने की दिशा में कार्य करने के निर्देश दिए। अतिरिक्त मुख्य सचिव, पीएचईडी डॉ. सुबोध अग्रवाल ने अधिकारियों को विभिन्न परियोजनाओं के जिले वाइज एजेण्डा तैयार करने तथा विभाग की प्रोजेक्ट एवं रेगुलर विंग के अभियंताओं को समन्वय स्थापित कर परियोजनाओं को गति देने के निर्देश दिए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack